Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

आईएनएक्स मीडिया कांडः दिल्ली हाईकोर्ट से कार्ति को मिली राहत, 10 लाख के मुचलके पर दी जमानत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आईएनएक्स मीडिया कांडः दिल्ली हाईकोर्ट से कार्ति को मिली राहत, 10 लाख के मुचलके पर दी जमानत

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया रिश्वत मामले में फंसे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को हाईकोर्ट ने राहत दी है। कोर्ट ने कार्ति को 10 लाख रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी है। बता दें कि इस मामले में सीबीआई ने कार्ति को चेन्न्ई हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया था। इससे पहले हाईकोर्ट ने उन्हें जमानत देने से यह कहते हुए इंकार कर दिया था कि बाहर जाकर वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम से कहा है कि उन्हें देश से बाहर जाने से पहले सीबीआई से अनुमति लेनी होगी। 

गौरतलब है कि कार्ति को 2007 में विदेश से 305 करोड़ रुपये पाने के लिए कार्ति ने आईएनएक्स मीडिया के मालिकों की मदद की। 2007 में कार्ति के पिता पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे। आईएनएक्स मीडिया की सर्वेसर्वा इंद्राणी मुखर्जी ने 17 फरवरी को इस मामले में कार्ति के शामिल होने की बात कबूली थी। उसी आधार पर कार्ति की गिरफ्तारी हुई थी। दिल्ली हाईकोर्ट ने 16 मार्च को उनकी जमानत के फैसले को सुरक्षित रख लिया था। 


ये भी पढ़ें - सामने आया एक और बैंक घोटाला, हैदराबाद की कंपनी ने यूबीआई को लगाया 1400 करोड़ का चूना

बता दें कि सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम पर आईएनएक्स मीडिया को एफआईपीबी की मंजूरी दिलवाने के लिए 10 लाख रुपये घूस लेने का आरोप लगया था। हालांकि बाद में सीबीआई ने इन आंकड़ों को 10 लाख डॉलर(वर्तमान विनिमय दर पर 6.50 करोड़ रुपये और वर्ष 2007  में 4.50  करोड़ रुपये) बताया था। सीबीआई ने अपने बयान में कहा था कि इंद्राणी मुखर्जी ने बयान रिकाॅर्ड कराते हुए कहा था कि कार्ति ने उनसे 10 रुपये रिश्वत की मांग की थी।  

Todays Beets: