Sunday, October 21, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

आईएनएक्स मीडिया कांडः दिल्ली हाईकोर्ट से कार्ति को मिली राहत, 10 लाख के मुचलके पर दी जमानत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आईएनएक्स मीडिया कांडः दिल्ली हाईकोर्ट से कार्ति को मिली राहत, 10 लाख के मुचलके पर दी जमानत

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया रिश्वत मामले में फंसे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को हाईकोर्ट ने राहत दी है। कोर्ट ने कार्ति को 10 लाख रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी है। बता दें कि इस मामले में सीबीआई ने कार्ति को चेन्न्ई हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया था। इससे पहले हाईकोर्ट ने उन्हें जमानत देने से यह कहते हुए इंकार कर दिया था कि बाहर जाकर वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम से कहा है कि उन्हें देश से बाहर जाने से पहले सीबीआई से अनुमति लेनी होगी। 

गौरतलब है कि कार्ति को 2007 में विदेश से 305 करोड़ रुपये पाने के लिए कार्ति ने आईएनएक्स मीडिया के मालिकों की मदद की। 2007 में कार्ति के पिता पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे। आईएनएक्स मीडिया की सर्वेसर्वा इंद्राणी मुखर्जी ने 17 फरवरी को इस मामले में कार्ति के शामिल होने की बात कबूली थी। उसी आधार पर कार्ति की गिरफ्तारी हुई थी। दिल्ली हाईकोर्ट ने 16 मार्च को उनकी जमानत के फैसले को सुरक्षित रख लिया था। 


ये भी पढ़ें - सामने आया एक और बैंक घोटाला, हैदराबाद की कंपनी ने यूबीआई को लगाया 1400 करोड़ का चूना

बता दें कि सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम पर आईएनएक्स मीडिया को एफआईपीबी की मंजूरी दिलवाने के लिए 10 लाख रुपये घूस लेने का आरोप लगया था। हालांकि बाद में सीबीआई ने इन आंकड़ों को 10 लाख डॉलर(वर्तमान विनिमय दर पर 6.50 करोड़ रुपये और वर्ष 2007  में 4.50  करोड़ रुपये) बताया था। सीबीआई ने अपने बयान में कहा था कि इंद्राणी मुखर्जी ने बयान रिकाॅर्ड कराते हुए कहा था कि कार्ति ने उनसे 10 रुपये रिश्वत की मांग की थी।  

Todays Beets: