Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

आईएनएक्स मीडिया कांडः दिल्ली हाईकोर्ट से कार्ति को मिली राहत, 10 लाख के मुचलके पर दी जमानत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आईएनएक्स मीडिया कांडः दिल्ली हाईकोर्ट से कार्ति को मिली राहत, 10 लाख के मुचलके पर दी जमानत

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया रिश्वत मामले में फंसे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को हाईकोर्ट ने राहत दी है। कोर्ट ने कार्ति को 10 लाख रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी है। बता दें कि इस मामले में सीबीआई ने कार्ति को चेन्न्ई हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया था। इससे पहले हाईकोर्ट ने उन्हें जमानत देने से यह कहते हुए इंकार कर दिया था कि बाहर जाकर वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम से कहा है कि उन्हें देश से बाहर जाने से पहले सीबीआई से अनुमति लेनी होगी। 

गौरतलब है कि कार्ति को 2007 में विदेश से 305 करोड़ रुपये पाने के लिए कार्ति ने आईएनएक्स मीडिया के मालिकों की मदद की। 2007 में कार्ति के पिता पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे। आईएनएक्स मीडिया की सर्वेसर्वा इंद्राणी मुखर्जी ने 17 फरवरी को इस मामले में कार्ति के शामिल होने की बात कबूली थी। उसी आधार पर कार्ति की गिरफ्तारी हुई थी। दिल्ली हाईकोर्ट ने 16 मार्च को उनकी जमानत के फैसले को सुरक्षित रख लिया था। 


ये भी पढ़ें - सामने आया एक और बैंक घोटाला, हैदराबाद की कंपनी ने यूबीआई को लगाया 1400 करोड़ का चूना

बता दें कि सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम पर आईएनएक्स मीडिया को एफआईपीबी की मंजूरी दिलवाने के लिए 10 लाख रुपये घूस लेने का आरोप लगया था। हालांकि बाद में सीबीआई ने इन आंकड़ों को 10 लाख डॉलर(वर्तमान विनिमय दर पर 6.50 करोड़ रुपये और वर्ष 2007  में 4.50  करोड़ रुपये) बताया था। सीबीआई ने अपने बयान में कहा था कि इंद्राणी मुखर्जी ने बयान रिकाॅर्ड कराते हुए कहा था कि कार्ति ने उनसे 10 रुपये रिश्वत की मांग की थी।  

Todays Beets: