Sunday, June 24, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

पत्थरबाजों के केस वापस लेने वाले मामले पर भाजपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- गोली मार देनी चाहिए

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पत्थरबाजों के केस वापस लेने वाले मामले पर भाजपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- गोली मार देनी चाहिए

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में पत्थरबाजों पर दर्ज मामले को वापस लेने पर नेताओं की प्रतिक्रिया जारी है। अब हरियाणा के भिवानी जिले से भाजपा के राज्यसभा सांसद डीके वत्स ने पत्थरबाजों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि इन लोगों को गोली मार देनी चाहिए। बता दें कि कुछ दिनों पहले सेना के अधिकारियों के बच्चों द्वारा दायर याचिका में पूछा गया है कि जिन सुरक्षाबल के मानवाधिकार का हनन हो रहा है क्या उन्हें मानवाधिकारों की रक्षा करने वालों की जरुरत नहीं है?

गौरतलब है कि सेना के अधिकारियों के बच्चों द्वारा याचिका में इस बता का भी जिक्र किया गया था कि भारतीय नागरिक खासकर सेना के जवानों के बच्चे होने की वजह से उन्हें उन जवानों की चिंता है जिनकी नियुक्ति अशांत क्षेत्रों में की गई है। अब इस याचिका को लेकर केन्द्र सरकार ने मानवाधिकार आयोग को अपना जवाब दिया है। केन्द्र सरकार ने कहा कि पत्थरबाजों के केस वापस लेने से सेना का मनोबल गिरेगा। 


ये भी पढ़ें - पीएनबी को करोड़ों का चूना लगाने वाला नीरव मोदी भागा लंदन, मांगी राजनीतिक शरण

यहां बता दें कि केन्द्र सरकार ने यह भी कहा कि इस तरह की घटनाओं से आतंकियों को नागरिकों का इस्तेमाल मानव ढाल के तौर पर करने और आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने का बढ़ावा मिलेगा। सरकार का दायित्व है कि वह जजवानों के मानवाधिकारों को बचाने के लिए पत्थरबाजों और उकसाने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।

Todays Beets: