Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

नहीं रहे दक्षिण की राजनीति के ‘पितामह’, आज शाम होगा अंतिम संस्कार, समाधि स्थल को लेकर विवाद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नहीं रहे दक्षिण की राजनीति के ‘पितामह’, आज शाम होगा अंतिम संस्कार, समाधि स्थल को लेकर विवाद

नई दिल्ली। तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख करुणानिधि का लंबी बीमारी के बाद देर शाम निधन हो गया। वे 94 साल के थे और काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। करीब 10 दिनों पहले उन्हें चेन्नई के कावेरी अस्पताल में भर्ती कराया गया था इसके बाद मंगलवार को उनके शरीर के महत्वपूर्ण अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। फिलहाल उनके पार्थिव शरीर को चेन्नई के राजाजी हाॅल में लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है। हालांकि अब उनके अंतिम संस्कार की जगह को लेकर मद्रास हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है। करुणानिधि के समर्थक मरीना बीच पर उनकी समाधि बनाने की मांग कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी शाम को चेन्नई पहंुचकर करुणानिधि को अंतिम विदाई देंगे।

गौरतलब है कि करुणानिधि अपने जीवन में एक सफल राजनेता, फिल्म लेखक, गीतकार, साहित्यकार, कार्टूनिस्ट और पत्रकार भी रहे। डाॅक्टरों ने जैसे ही उनके निधन की खबर सुनाई अस्पताल के बाहर खड़े समर्थकों में चीख पुकार मच गई। राज्य में सुरक्षा को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है। राज्य के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री दोनों ही राजाजी हाॅल पहुंचकर उन्हें अंतिम विदाई दी।

ये भी पढ़ें - दिल्ली के विधायकों की हो गई बल्ले-बल्ले, विधायक फंड 4 करोड़ से बढ़ाकर 10 करोड़ किया गया

यहां बता दंे कि करुणानिधि के देहांत के बाद अब उनकी समाधि स्थल बनाने को लेकर विवाद हो गया है। डीएमके समर्थक अन्य मुख्यमंत्रियों की तरह मरीना बीच पर ही समाधि स्थल बनाने की मांग कर रहे हैं। इस विवाद को लेकर मद्रास हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है। हालांकि तमिलनाडु सरकार ने करुणानिधि को दफनाने के लिए मरीना बीच पर जगह देने के द्रमुक के आग्रह को खारिज कर दिया। 


 

सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री सी राजगोपालाचारी और के कामराज की समाधि के नजदीक ही करुणानिधि को दफनाने के लिए दो एकड़ जगह की पेशकश की है। मरीना बीच पर दफनाने को लेकर सरकार का कहना है हाईकोर्ट में कई मामले लंबित होने की वजह से यह संभव नहीं है। करुणानिधि के देहांत पर तमिलनाडु में 7 दिनों का राजकीय शोक घोषित कर दिया गया है और बुधवार को वहां सभी दफ्तरों में छुट्टी कर दी गई है।

 

Todays Beets: