Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

टीम से बाहर चल रहे युवराज की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, घरेलू हिंसा का मामला दर्ज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टीम से बाहर चल रहे युवराज की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, घरेलू हिंसा का मामला दर्ज

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर चल रहे युवराज सिंह की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। युवराज की भाभी आकांक्षा शर्मा ने युवराज और उसके परिवार के खिलाफ घरेलू हिंसा का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया है। इस मामले में सुनवाई 21 अक्टूबर को होगी। 

 

आभूषण वापस मांगे

गौरतलब है कि आकांक्षा की वकील स्वाति सिंह मलिक ने बताया कि उनकी मुवक्किल ने पति जोरावर सिंह, सास शबनम सिंह और देवर युवराज सिंह के खिलाफ घरेलू हिंसा का केस दर्ज कराया है। मामले की सुनवाई 21 अक्टूबर को होगी। यहां बता दें कि युवराज की भाभी की वकील स्वाति का कहना है कि युवी की मां शबनम सिंह ने हाल ही में आकांक्षा के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें उन्होंने शादी में दिए गए आभूषण और दूसरे सामान वापस मांगे थे। 


ये भी पढ़ें - पूर्व राष्ट्रपति ने ममता बनर्जी को ‘जन्मजात विद्रोही’ बताया, कहा-उनका भी किया था अपमान

युवी की चुप्पी

आपको बता दें कि युवराज पर केस दर्ज कराने को लेकर आकांक्षा के वकील ने बताया कि ‘घरेलू हिंसा का मतलब सिर्फ शारीरिक हिंसा नहीं है। इसका मतलब मानसिक और आर्थिक उत्पीड़न से भी है। युवराज पर भी ये बात लागू होती है क्योंकि जब आकांक्षा के साथ गलत हो रहा था, तब वे (युवराज सिंह) इसपर कुछ नहीं बोल रहे थे।’ स्वाति ने आरोप लगाया कि शबनम, जोरावर और आकांक्षा की जिंदगी में बहुत दखल देती थीं।

Todays Beets: