Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

समीक्षा में अनफिट पाए गए डीआईजी रैंक के अफसर, सरकार ने सेवा से हटाया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
समीक्षा में अनफिट पाए गए डीआईजी रैंक के अफसर, सरकार ने सेवा से हटाया

नई दिल्ली । सरकार ने संतोषजनक कामकाज नहीं करने वाले आईपीएल अफसर विजय लिंगला प्रसाद को उनकी सेवा से हटा दिया है। मिजोरम में तैनात आईपीएस ऑफिसर लिंगला विजय प्रसाद को हटाते हुए गृह मंत्रालय की ओर से बयान आया है कि सरकार ने उनकी सेवाओं को असन्तोषजनक पाया था। डीआईजी रैंक के इस अफसर के सेवाकाल के पिछले 15 सालों की परफॉरमेंस की समीक्षा हुई, जिसमें उन्हें अनफिट पाया गया।  नियमों के अनुसार, ऑल इंडिया सर्विस ऑफिसर के प्रदर्शन की समीक्षा उसके सेवाकाल में दो बार होती है। इसमें पहली बार जब वह 15 साल पूरा कर चुका और दूसरा जब वह 25 साल पूरे कर चुका हो। 

ये भी पढ़ें - प्रधानमंत्री आवास योजना में नहीं उठा पाएंगे अवैध रूप से लाभ, कड़ी सुरक्षा की तैयारी 

गृहमंत्रालय के अधिकारी के अनुसार, 1997 बैच के पुलिस अफसर और अरुणाचल प्रदेश-गोवा-मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश काडर के ऑफिसर की सेवाओं को असंतोषजनक पाए जाने के बाद सेवा से हटा दिया गया है। विजय लिंगला प्रसाद को हटाने का आदेश बुधवार को गृहमंत्रालय की ओर से जारी किया गया। इसे कैबिनेट की नियुक्ति कमिटी ने भी मंजूरी दी है। 


ये भी पढ़ें - NGT का आदेश- डीजल की 10 साल और पेट्रोल की 15 साल पुरानी गाड़ियों पर प्रतिबंध

बता दें कि नियमों के अनुसार, केंद्र सरकार इस तरह के मामलों में एक अधिकारी को सार्वजनिक हित में रिटायर करने को लेकर राज्य सरकार से सलाह मशविरा कर सकती है। हालांकि इसके लिए लिखित में तीन महीने पहले नोटिस दिया जाता है या कई महीनों की सैलरी और भत्ते भी दिए जाते हैं। 

Todays Beets: