Tuesday, July 17, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

समीक्षा में अनफिट पाए गए डीआईजी रैंक के अफसर, सरकार ने सेवा से हटाया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
समीक्षा में अनफिट पाए गए डीआईजी रैंक के अफसर, सरकार ने सेवा से हटाया

नई दिल्ली । सरकार ने संतोषजनक कामकाज नहीं करने वाले आईपीएल अफसर विजय लिंगला प्रसाद को उनकी सेवा से हटा दिया है। मिजोरम में तैनात आईपीएस ऑफिसर लिंगला विजय प्रसाद को हटाते हुए गृह मंत्रालय की ओर से बयान आया है कि सरकार ने उनकी सेवाओं को असन्तोषजनक पाया था। डीआईजी रैंक के इस अफसर के सेवाकाल के पिछले 15 सालों की परफॉरमेंस की समीक्षा हुई, जिसमें उन्हें अनफिट पाया गया।  नियमों के अनुसार, ऑल इंडिया सर्विस ऑफिसर के प्रदर्शन की समीक्षा उसके सेवाकाल में दो बार होती है। इसमें पहली बार जब वह 15 साल पूरा कर चुका और दूसरा जब वह 25 साल पूरे कर चुका हो। 

ये भी पढ़ें - प्रधानमंत्री आवास योजना में नहीं उठा पाएंगे अवैध रूप से लाभ, कड़ी सुरक्षा की तैयारी 

गृहमंत्रालय के अधिकारी के अनुसार, 1997 बैच के पुलिस अफसर और अरुणाचल प्रदेश-गोवा-मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश काडर के ऑफिसर की सेवाओं को असंतोषजनक पाए जाने के बाद सेवा से हटा दिया गया है। विजय लिंगला प्रसाद को हटाने का आदेश बुधवार को गृहमंत्रालय की ओर से जारी किया गया। इसे कैबिनेट की नियुक्ति कमिटी ने भी मंजूरी दी है। 


ये भी पढ़ें - NGT का आदेश- डीजल की 10 साल और पेट्रोल की 15 साल पुरानी गाड़ियों पर प्रतिबंध

बता दें कि नियमों के अनुसार, केंद्र सरकार इस तरह के मामलों में एक अधिकारी को सार्वजनिक हित में रिटायर करने को लेकर राज्य सरकार से सलाह मशविरा कर सकती है। हालांकि इसके लिए लिखित में तीन महीने पहले नोटिस दिया जाता है या कई महीनों की सैलरी और भत्ते भी दिए जाते हैं। 

Todays Beets: