Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

विधानसभा चुनावों के दौरान होने वाले संदिग्ध लेन-देन पर चुनाव आयोग सख्त, बैंकों को देनी होगी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विधानसभा चुनावों के दौरान होने वाले संदिग्ध लेन-देन पर चुनाव आयोग सख्त, बैंकों को देनी होगी जानकारी

नई दिल्ली। चुनाव के दौरान होने वाले बेतहाशा खर्चे और संदिग्ध लेन-देन पर चुनाव आयोग सख्त हो गया है। आयोन ने दिशा निर्देश जारी करते हुए बैंकों से संदिग्ध लेन-देन की जानकारी देने के लिए कहा है। बता दें कि इस संबंध में कलेक्टर और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को दिशानिर्देश भी जारी किए गए हैं। विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए 1 लाख से अधिक के होने वाले सभी संदिग्ध लेन-देन की निगरानी की जाएगी। 

गौरतलब है कि चुनाव आयोग विधानसभा चुनाव के दौरान होने वाले वित्तीय अनियमितताओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठा रहा है। चुनाव आयोग ने बैंकों को दिशा निर्देश जारी करते हुए पिछले 2 महीनों में जिस भी खाते में 1 लाख या उससे ज्यादा की रकम जमा की गई या फिर निकाली गई है उसकी जानकारी देने के लिए कहा गया है। 


ये भी पढ़ें- LIVE: कुलगाम में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को किया ढेर, 2 जवान भी घायल, ट्रेन और इंटरनेट सेवा बंद

यहां बता दें कि बैंकों को किसी खास खाते के जरिए अन्य लोगों के खाते में भेजी गई रकम पर ध्यान देने के लिए कहा गया है। ऐसा कोई भी बड़ा लेन-देन जो बिना आरटीजीएस के माध्यम से हुआ हो उसका व्यौरा भी मांगा गया है। गौर करने वाली बात है कि चुनाव आयोग उम्मीदवारों के द्वारा शपथ पत्र में बताए गए संबंधियों के भी खातों की जानकारी ली जाएगी। इसके लिए एक टीम का गठन होगा जो बैंक में जाकर इन संदिग्ध लेन-देन की जांच करेगी। यह टीम किसी भी बैंक में औचक निरीक्षण भी कर सकती है। किसी भी खाते में 10 लाख रुपये से ज्यादा का लेन-देन होने पर इसकी जानकारी आयकर विभाग को भी देने का निर्देश है।

Todays Beets: