Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

अब संसद की कैंटीन में कैश नहीं ‘फूड कार्ड’ चलेगा, डिजिटल भुगतान को मिलेगा बढ़ावा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब संसद की कैंटीन में कैश नहीं ‘फूड कार्ड’ चलेगा, डिजिटल भुगतान को मिलेगा बढ़ावा 

नई दिल्ली। पूरे देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए केन्द्र सरकार की तरफ से काफी कोशिशें की जा रही हैं। इसकी शुरुआत संसद की कैंटीन से की जाएगी। बता दें कि संसद की कैंटीन कैशलेस व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए क्रेडिट या डेबिट कार्ड से भुगतान की नामकामयाबी के बाद अब सरकार ने संसद के सदस्य और कर्मचारियों को ‘‘प्री-पेड फूड कार्ड्स’’ जारी करने का फैसला लिया है। 

पार्लियामेंट कैंटीन में अब चलेगा फूड कार्ड

आपको बता दें कि लोकसभा सचिवालय की तरफ से मेट्रो कार्ड की तरह का ही कार्ड जारी किया जाएगा। पिछले साल 8 सितंबर को हुई नोटबंदी के बावजूद पार्लियामेंट की चारों कैंटीन में डिजिटल कार्ड्स की जगह नकद पैसे देकर ही खाने का बिल चुकाया जा रहा है। 

ये भी पढ़ें -निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले दलित नेता जिग्नेश के काफिले पर हुआ हमला, जान को खतरा बताते हुए सुरक्...

एसबीआई से हुआ टाई-अप


लोकसभा सचिवालय के एडिशनल सेक्रेटरी और कैंटीन के इंचार्ज अशोक कुमार सिंह ने बताया कि “हमने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के साथ बात की है ताकि नई व्यवस्था की शुरुआत की जा सके। कैंटीन में कार्ड रीडर्स होंगे जिससे कैश से लेनदेन के मुकाबले इसके जरिए लोगों को पेमेंट करने में ज्यादा आसानी होगी।” इन कार्ड्स को स्टेट बैंट के पार्लियामेंट कॉम्पलैक्स ब्रांच से री-फिल किया जा सकेगा।     

पीओएस सिस्टम रहा फेल

यहां गौर करने वाली बात है कि नोटबंदी के बाद लोकसभा में अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सभी कैफे में भुगतान के लिए पीओएस मशीन की शुरुआत कराई थी  लेकिन नेताओं और कर्मचारियों ने इस व्यवस्था में दिलचस्पी नहीं दिखाई। इसकी वजह कैंटीन में खाने के रेट का काफी कम होना बताया गया। बता दें कि संसद की कैंटीन में एक वेजिटेरियन थाली 40 रुपये की है जबकि मसाला डोसा 20 रुपये का मिलता है।    

 

Todays Beets: