Thursday, February 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब संसद की कैंटीन में कैश नहीं ‘फूड कार्ड’ चलेगा, डिजिटल भुगतान को मिलेगा बढ़ावा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब संसद की कैंटीन में कैश नहीं ‘फूड कार्ड’ चलेगा, डिजिटल भुगतान को मिलेगा बढ़ावा 

नई दिल्ली। पूरे देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए केन्द्र सरकार की तरफ से काफी कोशिशें की जा रही हैं। इसकी शुरुआत संसद की कैंटीन से की जाएगी। बता दें कि संसद की कैंटीन कैशलेस व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए क्रेडिट या डेबिट कार्ड से भुगतान की नामकामयाबी के बाद अब सरकार ने संसद के सदस्य और कर्मचारियों को ‘‘प्री-पेड फूड कार्ड्स’’ जारी करने का फैसला लिया है। 

पार्लियामेंट कैंटीन में अब चलेगा फूड कार्ड

आपको बता दें कि लोकसभा सचिवालय की तरफ से मेट्रो कार्ड की तरह का ही कार्ड जारी किया जाएगा। पिछले साल 8 सितंबर को हुई नोटबंदी के बावजूद पार्लियामेंट की चारों कैंटीन में डिजिटल कार्ड्स की जगह नकद पैसे देकर ही खाने का बिल चुकाया जा रहा है। 

ये भी पढ़ें -निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले दलित नेता जिग्नेश के काफिले पर हुआ हमला, जान को खतरा बताते हुए सुरक्...

एसबीआई से हुआ टाई-अप


लोकसभा सचिवालय के एडिशनल सेक्रेटरी और कैंटीन के इंचार्ज अशोक कुमार सिंह ने बताया कि “हमने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के साथ बात की है ताकि नई व्यवस्था की शुरुआत की जा सके। कैंटीन में कार्ड रीडर्स होंगे जिससे कैश से लेनदेन के मुकाबले इसके जरिए लोगों को पेमेंट करने में ज्यादा आसानी होगी।” इन कार्ड्स को स्टेट बैंट के पार्लियामेंट कॉम्पलैक्स ब्रांच से री-फिल किया जा सकेगा।     

पीओएस सिस्टम रहा फेल

यहां गौर करने वाली बात है कि नोटबंदी के बाद लोकसभा में अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सभी कैफे में भुगतान के लिए पीओएस मशीन की शुरुआत कराई थी  लेकिन नेताओं और कर्मचारियों ने इस व्यवस्था में दिलचस्पी नहीं दिखाई। इसकी वजह कैंटीन में खाने के रेट का काफी कम होना बताया गया। बता दें कि संसद की कैंटीन में एक वेजिटेरियन थाली 40 रुपये की है जबकि मसाला डोसा 20 रुपये का मिलता है।    

 

Todays Beets: