Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त का बड़ा बयान , कहा-EVM के 50 फीसदी परिणामों का वीवीपैट से मिलान संभव नहीं 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त का बड़ा बयान , कहा-EVM के 50 फीसदी परिणामों का वीवीपैट से मिलान संभव नहीं 

नई दिल्ली । ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराए जाने की मांग को लेकर अड़े कई राजनीति दलों के नेताओं ने गत दिनों निर्वाचन आयोग से मुलाकात की। इस दौरान 23 राजनीतिक दलों के नेताओं ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनावों में किसी भी सीट के परिणाम का ऐलान करने से पहले EVM से करीब 50 फीसदी वीवीपैट का मिलान अवश्य किया जाए। विपक्षी दलों की इस मांग पर पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त टीएस कृष्णमूर्ति ने कहा कि ऐसा मिलान करना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि यह काम चुनाव आयोग के लिए मुश्किल हो सकता है।

बता दें कि यूपी विधानसभा चुनावों के दौरान सबसे पहले बसपा सुप्रीमो मायावती ने ईवीएम से मतदान की व्यवस्था पर गंभीर सवाल उठाते हुए बैलेट पेपर से ही चुनाव करवाने की मांग की थी। इसके बाद विपक्ष के कई दलों ने उनकी इस मांग का समर्थन किया और बैलेट पेपर से चुनाव करवाए जाने के पक्ष में प्रदर्शन भी किए। हालाकि चुनाव आयोग ने हैकाथन आयोजितक करने के साथ ही विपक्षी दलों से कह दिया है कि बैलेट पेपर से चुनाव करवाना मतलब पीछे जाना। बहरहाल इस सब के बावजूद गत सोमवार को 23 राजनीतिक दलों के नेता इस मुद्दे को लेकर चुनाव आयोग में गए भी थे। इस दौरान इन नेताओं ने मांग रखी कि आगामी लोकसभा चुनावों में परिणामों का ऐलान करने से पहले 50 फीसदी वीवीपैट का मिलान ईवीएम से किया जाए।


इस पर पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त कृष्णामूर्ति ने कहा कि ऐसा संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग पहले ही इस बात को कह चुका है कि वह धीरे-धीरे वीवीपैट के सत्यापन को बढ़ाएगा । असल में यह उन्हें मिलने वाली मशीनों पर निर्भर करता है। एक रात में वह 50 फीसदी वोटों का वीवीपैट से सत्यापन करने में सक्षम नहीं हैं। जब नई मशीनें आएंगी तो उन्हें वीवीपैट से जोड़ा जाएगा। बहरहला, उनके इस बयान ने साफ कर दिया है कि विपक्षी दलों की मांग पर आने वाले समय में कोई एक्शन नहीं हो सकेगा।   

Todays Beets: