Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

बढ़ते एनपीए को लेकर पूर्व आरबीआई गवर्नर का बड़ा बयान, यूपीए को ठहराया जिम्मेदार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बढ़ते एनपीए को लेकर पूर्व आरबीआई गवर्नर का बड़ा बयान, यूपीए को ठहराया जिम्मेदार

नई दिल्ली। बढ़ती महंगाई और देश की सुस्त आर्थिक रफ्तार के बीच एनडीए सरकार को थोड़ी राहत मिली है। भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने इसके लिए यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। रघुराम राजन ने संसदीय समिति को बताया कि बैंकों के अति आशावान, सरकार की नीतिगत प्रक्रिया में सुस्ती और आर्थिक विकास की धीमी प्रक्रिया जैसे कारक डूबे हुए कर्ज (एनपीए) की राशि बढ़ाने में मुख्य रूप से जिम्मेदार थे। उन्होंने कहा कि इस मामले में बैंकों से भी गलतियां हुईं। बैंकों ने पुराने विकास दर और भविष्य की कार्ययोजना को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करते रहे। रघुराम राजन ने कहा कि एनपीए का बड़ा हिस्सा 2006 से 2008 के दौरान बढ़ा है।

गौरतलब है कि संसदीय समिति के अध्यक्ष और भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी को सौंपी गई रिपोर्ट में रघुराम राजन ने कहा कि यूपीए और एनडीए दोनों ही सरकारों में कई तरह की शासन संबंधी समस्याएं थीं। रघुराम राजन ने कोयला खदानों का आवंटन संदिग्ध तरीके से किया गया था और उसके बाद जांच के डर ने सरकार की योजनाओं पर उल्टा असर किया।

ये भी पढ़ें - अगले महीने होने वाले इंवेस्टर्स समिट की तैयारियां जोरों पर, उद्यमियों की पहल का पीएम लेंगे जायजा 


यहां बता दें कि रघुराम राजन ने कहा कि एनपीए का बड़ा हिस्सा 2006 से 2008 के दौरान बढ़ा, जबकि उस समय आर्थिक विकास दर मजबूत स्थिति में थी। आज भी यह स्थिति है कि सरकारी योजनाएं तेजी से अमल में नहीं आ पा रहीं हैं। इससे उसकी लगात और एनपीए की राशि लगातार बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि देश में बिजली की आपूर्ति एक बड़ी समस्या है लेकिन इससे जुड़ी परियोजनाएं शुरू ही नहीं हो पा रहीं हैं। पूर्व आरबीआई गवर्नर ने कहा कि एनपीए की राशि को बढ़ाने में बैंक भी जिम्मेदार रहे हैं। उन्होंने प्रमोटरों की बिना जांच-पड़ताल किए उनके निवेश के आधार पर उन्हें करोड़ों रुपये के लोन दे दिए।

 

Todays Beets: