Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

बढ़ते एनपीए को लेकर पूर्व आरबीआई गवर्नर का बड़ा बयान, यूपीए को ठहराया जिम्मेदार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बढ़ते एनपीए को लेकर पूर्व आरबीआई गवर्नर का बड़ा बयान, यूपीए को ठहराया जिम्मेदार

नई दिल्ली। बढ़ती महंगाई और देश की सुस्त आर्थिक रफ्तार के बीच एनडीए सरकार को थोड़ी राहत मिली है। भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने इसके लिए यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। रघुराम राजन ने संसदीय समिति को बताया कि बैंकों के अति आशावान, सरकार की नीतिगत प्रक्रिया में सुस्ती और आर्थिक विकास की धीमी प्रक्रिया जैसे कारक डूबे हुए कर्ज (एनपीए) की राशि बढ़ाने में मुख्य रूप से जिम्मेदार थे। उन्होंने कहा कि इस मामले में बैंकों से भी गलतियां हुईं। बैंकों ने पुराने विकास दर और भविष्य की कार्ययोजना को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करते रहे। रघुराम राजन ने कहा कि एनपीए का बड़ा हिस्सा 2006 से 2008 के दौरान बढ़ा है।

गौरतलब है कि संसदीय समिति के अध्यक्ष और भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी को सौंपी गई रिपोर्ट में रघुराम राजन ने कहा कि यूपीए और एनडीए दोनों ही सरकारों में कई तरह की शासन संबंधी समस्याएं थीं। रघुराम राजन ने कोयला खदानों का आवंटन संदिग्ध तरीके से किया गया था और उसके बाद जांच के डर ने सरकार की योजनाओं पर उल्टा असर किया।

ये भी पढ़ें - अगले महीने होने वाले इंवेस्टर्स समिट की तैयारियां जोरों पर, उद्यमियों की पहल का पीएम लेंगे जायजा 


यहां बता दें कि रघुराम राजन ने कहा कि एनपीए का बड़ा हिस्सा 2006 से 2008 के दौरान बढ़ा, जबकि उस समय आर्थिक विकास दर मजबूत स्थिति में थी। आज भी यह स्थिति है कि सरकारी योजनाएं तेजी से अमल में नहीं आ पा रहीं हैं। इससे उसकी लगात और एनपीए की राशि लगातार बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि देश में बिजली की आपूर्ति एक बड़ी समस्या है लेकिन इससे जुड़ी परियोजनाएं शुरू ही नहीं हो पा रहीं हैं। पूर्व आरबीआई गवर्नर ने कहा कि एनपीए की राशि को बढ़ाने में बैंक भी जिम्मेदार रहे हैं। उन्होंने प्रमोटरों की बिना जांच-पड़ताल किए उनके निवेश के आधार पर उन्हें करोड़ों रुपये के लोन दे दिए।

 

Todays Beets: