Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अब मेडिकल स्टोर पर नहीं मिलेंगी सर्दी-जुकाम, खांसी और दर्द निवारक दवाएं, केंद्र सरकार ने लगाया प्रतिबंध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब मेडिकल स्टोर पर नहीं मिलेंगी सर्दी-जुकाम, खांसी और दर्द निवारक दवाएं, केंद्र सरकार ने लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। दवाई की दुकानों पर आसानी से मिलने वाली दर्द निवारक और कफ सिरफ जैसी दवाएं अब नहीं मिलेंगी। केंद्र सरकार ने इन दवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके लिए अधिसूचना भी जारी की दी गई है। इन दवाओं में सर्दी जुकाम, सिरदर्द और दस्त जैसी बीमारियों की आम दवाएं शामिल हैं। बताया जा रहा है कि इन दवाओं का कारोबार करीब 4 हजार करोड़ रुपये का है और आसानी से बिना किसी डाॅक्टर के पर्ची के भी उपलब्ध हो जाती है। यह दवाएं फिक्सड डोज कॉम्बिनेशन (एफडीसी) हैं और अब इसका इस्तेमाल इलाज से ज्यादा नशे के लिए होने लगा है। 

तेलंगाना में चंद्रशेखर राव के मंसूबे को कांग्रेस ने दिया झटका, बनाया महागठबंधन

गौरतलब है कि देश भर के मेडिकल स्टोर्स पर अगर इन दवाओं को बेचने की जानकारी मिलती है तो दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है। देश में इन दवाओं के करीब 6 हजार से अधिक ब्रांड हैं जिनमें से सेरिडॉन, डीकोल्ड, फेंसिड्रिल, जिंटाप काफी प्रसिद्ध हैं।  केंद्र सरकार द्वारा इन दवाओं की बिक्री पर रोक लगाने से दवा तैयार करने वाली कई मशहूर कंपनियों को बड़ा झटका लगा है। 

अमेरिका में होने वाले चुनाव में दखलअंदाजी करने वाले देश हो जाएं सावधान, लगेगा प्रतिबंध 


ये भी पढ़ें - राफेल विमान के आने से वायुसेना होगी और मजबूत- वायुसेना प्रमुख

यहां बता दें कि ड्रग टेक्नोलाॅजी एडवाइजरी बोर्ड (डीटीएबी) ने स्वास्थ्य मंत्रालय को इन दवाओं पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की थी। डीटीबीए ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मंत्रालय को सामान्य तरीके से उपलब्ध होने वाली दवाओं पर रोक लगाने के निर्देश दिए थे। अब केंद्र सरकार ने इसके लिए अधिसूचना जारी कर दी है। अब इस बात का भी अंदेशा जताया जा रहा है कि सरकार के इस फैसले के खिलाफ कई दवा निर्माता कंपनियां कोर्ट में जा सकती हैं। 

आपको बता दें कि प्रतिबंध लगने के बाद करीब 343 सामान्य दवाएं अब मेडिकल स्टोर पर नहीं मिलेंगी। अगर कोई दुकानदार इसे बेचते हुए पाया जाता है तो दवा निरीक्षक के द्वारा उसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया जा सकता है। 

Todays Beets: