Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

रुपये के गिरते मूल्यों पर लगेगी लगाम, सरकार उठा सकती है ये कदम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रुपये के गिरते मूल्यों पर लगेगी लगाम, सरकार उठा सकती है ये कदम

नई दिल्ली। रुपये की लगातार गिरती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए सरकार की तरफ से लगातार कोशिशें की जा रही हैं। इसके लिए प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक में कई उपाय बताए गए हैं। बैठक में गैर जरूरी चीजों के आयात को कम करने और निर्यात को बढ़ावा देने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही कुछ अन्य चीजों पर भी रोक लगाने की बात कही गई है। 

गौरतलब है कि डाॅलर के मुकाबले रुपये की लगातार गिरती कीमतों के चलते देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में रोज ब रोज इजाफा हो रहा है। बता दें कि तेल के आयात का मूल्य तेल कंपनियों को डाॅलर में चुकाना होता है ऐसे में देश को ज्यादा रुपये देने पड़ रहे हैं। पीएम की अध्यक्षता में देर रात हुई बैठक में वाणिज्यिक नियमों भी बदलाव करने पर विचार करने के निर्देश दिए गए हैं। 

ये भी पढ़ें - कर्नाटक के सीएम ने भाजपा पर लगाए गंभीर आरोप, कहा-कांग्रेसी विधायकों को रिश्वत देने की कोशिश जारी


यहां बता दें कि डाॅलर के मुकाबले रुपये का स्तर इतना गिर गया है कि अब वह 72 के पार पहुंच चुका है। रुपये की लगातार गिरती कीमतों को लेकर पूरे देश में राजनीति भी तेज हो गई है। कांग्रेस के द्वारा इसके लिए भारत बंद का भी आयोजन किया गया। अब केंद्र सरकार की ओर से रुपये को बेहतर स्थिति में लाने के लिए प्रधानमंत्री, रिजर्व बैंक के गवर्नर और वित्त मंत्री अरुण जेटली के बीच हुई बैठक में कई तरह के उपायों पर विचार किया गया है। 

गौर करने वाली बात है कि प्रधानमंत्री ने यह बैठक अर्थव्यवस्था का जायजा लेने के लिए बुलाई थी। बैठक में वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार मौजूदा वित्तीय घाटे को कम करने के लिए कई बिन्दुओं पर विचार कर रही है। इसके तहत विदेशी वाणिज्यिक उधारी (ईसीबी) से संबंधित नियमों को आसान बनाने से लेकर कॉरपोरेट बांड बाजार में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की भागीदारी को बढ़ावा देने के उपाय शामिल हैं। इसके अलावा चालू वित्त वर्ष में जारी किए गए मसाला बांड को विदहोल्डिंग टैक्स से छूट देने का भी निर्णय किया गया है। आपको बता दें कि मसाला बांड का मतलब ऐसे बांड से हैं जिन्हें बाजार से उधार लेने के लिए किसी भारतीय कंपनी ने देश से बाहर रुपये के डिनॉमिनेशन में जारी किया है। 

 

Todays Beets: