Thursday, December 13, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

मानसून सत्र का आज आखिरी दिन, संशोधन के बाद तीन तलाक बिल के पास होने की उम्मीद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मानसून सत्र का आज आखिरी दिन, संशोधन के बाद तीन तलाक बिल के पास होने की उम्मीद

नई दिल्ली। संसद का मानसून सत्र शुक्रवार को खत्म होने वाला है। सत्र के अंतिम दिन सरकार राज्य सभा में तीन तलाक बिल को पेश करेगी। सत्ता पक्ष को उम्मीद है कि विपक्ष इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर उनका साथ देगी और इस बिल को राज्यसभा मंे पास कर दिया जाएगा। गौर करने वाली बात है कि सरकार ने इस बिल को पिछले सत्र में भी पेश किया था लेकिन कांग्रेस ने इसमें खामियां बताई थी अब सरकार ने इसमें संशोधन कर दिया है।

गौरतलब है कि गुरुवार को ही राज्यसभा के उपसभापति का चुनाव हुआ जिसमें एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह को जीत हासिल हुए।  ऐसे में फिलहाल राज्यसभा में उसकी स्थिति मजबूत नजर आ रही है और सरकार इस बिल को पास कराने की पूरी कोशिश करेगी। 

यहां बता दें कि संशोधित बिल में तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) के मामले को गैर जमानती अपराध तो माना गया है लेकिन संशोधन के हिसाब से अब मजिस्ट्रेट को जमानत देने का अधिकार होगा। इस विधेयक में एक और संशोधन किया गया है जिसमें तीन तलाक पीड़ित के रिश्तेदार या फिर खून के रिश्ते वाला शख्स शिकायत दर्ज करा सकता है। पिछले सत्र में इस बिल को लेकर दोनों पक्षों के बीच काफी तीखी बहस हुई थी। कांग्रेस ने इसमें खामियां बताते हुए इसे प्रवर समिति में भेजने की मांग की थी। 

ये भी पढ़ें - सरकारी स्कूल में दूसरी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा से हुआ दुष्कर्म, आरोपी इलेक्ट्रिशयन गिरफ्तार

सरकार ने किए ये संशोधन


- ट्रायल से पहले पीड़िता का पक्ष सुनकर मजिस्ट्रेट दे सकता है आरोपी को जमानत।

- पीड़िता, परिजन और खून के रिश्तेदार ही एफआईआर दर्ज करा सकते हैं।

- मजिस्ट्रेट को पति-पत्नी के बीच समझौता कराकर शादी बरकरार रखने का अधिकार होगा।

- एक बार में तीन तलाक बिल की पीड़ित महिला मुआवजे की अधिकार।

गौर करने वाली बात है कि तीन तलाक से संबंधित मुसलिम महिला विवाह संरक्षण बिल लोकसभा से पास हो चुका है। यह बिल एनडीए की अल्पमत वाली राज्यसभा में अंटका हुआ है। अब इस बिल को राज्यसभा में पास होने के बाद एक बार फिर लोकसभा से ग्रीन सिग्नल लेना होगा।

Todays Beets: