Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

एक्पायरी डेट वाली एक भी गोली बेचने पर लगेगा जुर्माना, सरकार करेगी कानून में बदलाव  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक्पायरी डेट वाली एक भी गोली बेचने पर लगेगा जुर्माना, सरकार करेगी कानून में बदलाव  

नई दिल्ली। दवा कारोबारी सावधान हो जाएं। अब अगर एक एक्सपायर हो चुकी दवाई की एक भी गोली बेची तो यह काफी महंगा पड़ेगा। ऐसा करने पर उस दवाई के पूरे बैच पर जुर्माना लगाया जाएगा। केंद्र सरकार जल्द दवा कानून मंे बदलाव करने जा रही है। इस नए बदलाव के बाद एक्सपायरी डेट के बाद वाली दवाई बेचने पर एक बैच में बनने वाली लाखों दवाओं की एमआरपी पर जुर्माना लगाया जाएगा। ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट में इस प्रावधान को शामिल करने के प्रस्ताव को मंजूर कर लिया है। सेंट्रल ड्रग स्टैण्डर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) ने यह प्रस्ताव मंजूर कर लिया है। इस प्रस्ताव को मंजूरी के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजा जाएगा। 

गौरतलब है कि दवा कानून में बदलाव होने के बाद दवाओं की गुणवत्ता से छेड़छाड़ करने पर भी जुर्माना लगाया जाएगा। अब दवाओं की 48 मानकों पर जांच की जाएगी। दवा की क्वालिटी, मिलावटी दवा, टैबलेट अंदर टूटी हो, दवा की बोतल का ढक्कन लीक होने और सॉल्यूशन का रंग बदलने पर भी कंपनी पर जुर्माना लगेगा। अभी तक ड्रग्स इंस्पेक्टर की रिपोर्ट पर दवा कंपनी पर जुर्माना लगाने का प्रावधान है। 

ये भी पढ़ें - सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणी, कहा- देश में आतंकी हमलों से ज्यादा खतरनाक हैं हमारी गड्ढे वाली सड़कें


यहां बता दंे कि अभी तक दवा कंपनियों और चिकित्सकीय उपकरण को बेचने के बाद किसी तरह की कोई जिम्मेदारी तय नहीं होती थी। ऐसे में दवाओं की खराब गुणवत्ता और एक्सपायर दवाई लेने की वजह से मरीजांे की मौत भी हो जाती है। अब सरकार ने मेडिकल उपकरणों को बेचने वाली कंपनियों पर भी जुर्माना लगाने की बात कही है। सीडीएससीओ ने सरकार को 1940 में बने ड्रग कानून को बदलने के लिए सुझाव दिया है।

 

Todays Beets: