Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

अब सड़कों पर नहीं सुनाई देगा गाड़ियों का तेज हाॅर्न, सरकार कम करेगी इसकी सीमा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब सड़कों पर नहीं सुनाई देगा गाड़ियों का तेज हाॅर्न, सरकार कम करेगी इसकी सीमा

नई दिल्ली। अब जल्द ही सड़कों पर गाड़ियों तेज हाॅर्न से लोगों को निजात मिलने वाली है। सरकार हाॅर्न से होने वाले शोर की सीमा को घटाकर 100 डेसीबल करने की योजना बना रही है। बता दें कि यह कमी मौजूदा सीमा में यह कमी 10 फीसदी की है। केंद्रीय मोटर वाहन नियमों के अनुसार हॉर्न के लिए शोर की रेंज 93 से 112 डेसीबल्स है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि जल्द ही इस सीमा को 88 डेसीबल से 100 डेसीबल करने पर विचार किया जा रहा है। 

गौरतलब है कि सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के संयुक्त सचिव अभय दामले ने बताया कि भारत के शहरों में ध्वनि प्रदूषण बहुत ज्यादा है और अक्सर इस बात की शिकायतें आती हैं कि लोगों को सुनने में दिक्कतें आती हैं। इसीके मद्देनजर मंत्रालय के द्वारा यह फैसला लिया गया है। मंत्रालय ने ऑटोमोबाइल कंपनियों और सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स के साथ इस संबंध में कई बार बातचीत की है।

ये भी पढ़ें - शिकागो में हिन्दू समुदाय को लेकर आरएसएस प्रमुख का बड़ा बयान, कहा-सालों से प्रताड़ित हो रहा हिंदू


आपको बता दें कि मंत्रालय के लिए गाड़ियों के हाॅर्न तो चुनौती है ही वहीं लोगों के द्वारा गाड़ियों में लगाए जाने वाले प्रेशर हाॅर्न और मल्टीटोन हॉर्न का डेसीबल स्तर प्रस्तावित मोटर नियम के मानकों की अत्यधिक सीमा से कहीं अधिक होता है। गौर करने वाली बात है कि तेज हॉर्न के मामले पर राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) के अलावा कई अदालतों ने भी इसकी आलोचना की थी लेकिन इसे कम करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। 

 

Todays Beets: