Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अब सड़कों पर नहीं सुनाई देगा गाड़ियों का तेज हाॅर्न, सरकार कम करेगी इसकी सीमा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब सड़कों पर नहीं सुनाई देगा गाड़ियों का तेज हाॅर्न, सरकार कम करेगी इसकी सीमा

नई दिल्ली। अब जल्द ही सड़कों पर गाड़ियों तेज हाॅर्न से लोगों को निजात मिलने वाली है। सरकार हाॅर्न से होने वाले शोर की सीमा को घटाकर 100 डेसीबल करने की योजना बना रही है। बता दें कि यह कमी मौजूदा सीमा में यह कमी 10 फीसदी की है। केंद्रीय मोटर वाहन नियमों के अनुसार हॉर्न के लिए शोर की रेंज 93 से 112 डेसीबल्स है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि जल्द ही इस सीमा को 88 डेसीबल से 100 डेसीबल करने पर विचार किया जा रहा है। 

गौरतलब है कि सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के संयुक्त सचिव अभय दामले ने बताया कि भारत के शहरों में ध्वनि प्रदूषण बहुत ज्यादा है और अक्सर इस बात की शिकायतें आती हैं कि लोगों को सुनने में दिक्कतें आती हैं। इसीके मद्देनजर मंत्रालय के द्वारा यह फैसला लिया गया है। मंत्रालय ने ऑटोमोबाइल कंपनियों और सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स के साथ इस संबंध में कई बार बातचीत की है।

ये भी पढ़ें - शिकागो में हिन्दू समुदाय को लेकर आरएसएस प्रमुख का बड़ा बयान, कहा-सालों से प्रताड़ित हो रहा हिंदू


आपको बता दें कि मंत्रालय के लिए गाड़ियों के हाॅर्न तो चुनौती है ही वहीं लोगों के द्वारा गाड़ियों में लगाए जाने वाले प्रेशर हाॅर्न और मल्टीटोन हॉर्न का डेसीबल स्तर प्रस्तावित मोटर नियम के मानकों की अत्यधिक सीमा से कहीं अधिक होता है। गौर करने वाली बात है कि तेज हॉर्न के मामले पर राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) के अलावा कई अदालतों ने भी इसकी आलोचना की थी लेकिन इसे कम करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। 

 

Todays Beets: