Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

योगी सरकार ने पैसे लेकर मकान न देने वाले बिल्डरों पर कसा शिकंजा, दिया 8 को गिरफ्तार करने का आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
योगी सरकार ने पैसे लेकर मकान न देने वाले बिल्डरों पर कसा शिकंजा, दिया 8 को गिरफ्तार करने का आदेश

नई दिल्ली। रियल स्टेट कारोबारियों पर उत्तरप्रदेश सरकार ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। सरकार द्वारा गठित मंत्रियों के समूह ने गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी लव कुमार को नोएडा के 8 बिल्डरों को गिरफ्तार करने के आदेश दिए हैं। बता दें कि इन बिल्डरों पर 5000 ग्राहकों से पैसे लेकर उन्हें फ्लैट नहीं देने का आरोप है। किस-किस बिल्डर को गिरफ्तार करने के आदेश दिए गए हैं उनका नाम नहीं बताया गया है। 

बिल्डरों पर 13 एफआईआर

गौरतलब है कि इस साल सितंबर में नोएडा और ग्रेटर नोएडा में 6 बिल्डरों के खिलाफ 13 एफआई आर दर्ज किया था जिसमें आम्रपाली ग्रुप, सुपरटेक, अल्पाइन रिएलटेक, प्रोव्यू ग्रुप, टुडे होम्स और जेएनसी जैसे ग्रुप शामिल थे। बता दें कि इन बिल्डरों के खिलाफ एफआईआर के आदेश भी इन्हीं मंत्रियों के समूह ने अगस्त में दिए थे। पुलिस ने आईपीसी की धारा, 406 और 420 के तहत इन बिल्डरों के खिलाफ केस दर्ज किया है।


ये भी पढ़ें - सुप्रीम कोर्ट ने डोनाल्ड ट्रंप सरकार के फैसले का किया समर्थन, 6 मुस्लिम देशों पर लग सकता है ट...

ग्राहकों को मिलेंगे मकान

आपको बता दें कि योगी सरकार में शहरी विकास और आवास मंत्री सुरेश खन्ना ने एसससपी को फ्लैट खरीददारों को फ्लैट दे पाने में नाकाम सभी बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के आदेश दिए हैं। बता दें कि सुरेश खन्ना, इस मामले में को देख रही मंत्रियों के समूह के सदस्य भी हैं। खन्ना ने कहा है कि किसी भी खरीदार के हितों की अनदेखी नहीं होने दी जाएगी और 2017 के खत्म होते-होते नोएडा में 11,000 फ्लैट डिलीवर किए जाएंगे। जबकि ग्रेटर नोएडा के बिल्डरों ने 14,000 अपार्टमेंट्स की डिलिवरी का वादा किया है। वहीं, यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी ने कहा कि वह 7,525 फ्लैट्स डिलीवर करेगी जिनमें उसकी ओर से निर्मित 2,970 मकान भी शामिल हैं।  

Todays Beets: