Wednesday, December 13, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

आतंकी हाफिज लड़ेगा पाकिस्तान का आम चुनाव, परवेज मुशर्रफ गठबंधन बनाने को तैयार 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आतंकी हाफिज लड़ेगा पाकिस्तान का आम चुनाव, परवेज मुशर्रफ गठबंधन बनाने को तैयार 

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ ने एक बार फिर से आतंकियों के समर्थन की बात कही है। मुशर्रफ ने पाकिस्तान के आतंकी हाफिज सईद को 2018 में होने वाले चुनाव में समर्थन देने की बात कही है। पाकिस्तानी टीवी चैनल को दिए गए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि वे हाफिज सईद की पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन के लिए भी तैयार हैं। बता दें कि इससे पहले भी परवेज मुशर्रफ आतंकी सरगना हाफिज के संगठन जमात उद दावा का खुलकर समर्थन किया था।

परवेज ने बनाई पार्टी

गौरतलब है कि खुद को हाफिज और लश्कर का सबसे बड़ा समर्थक बताने वाले मुशर्रफ ने पाकिस्तानी न्यूज चैनल ‘‘आज’’ को दिए गए इंटरव्यू में द्वारा जमात उद-दावा प्रमुख सईद के साथ गठबंन का सवाल पूछे जाने पर कहा, ‘अभी तक उन लोगों के साथ कोई बात नहीं हुई लेकिन अगर वे गठबंधन का हिस्सा बनना चाहेंगे तो मैं उनका स्वागत करूंगा।’  पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने पिछले महीने एक बड़े गठबंधन की घोषणा की थी जिसमें सुन्नी तहरीक, मजलिस-ए-वहातुदुल मुसलिमीन, पाकिस्तान आवामी तहरीक और मुशर्रफ की अपनी ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग सहित करीब 2 दर्जन पार्टियां शामिल थी हालांकि अगले ही दिन कुछ बड़ी सहयोगी पार्टियों ने खुद को इससे अलग कर लिया था। 

ये भी पढ़ें - जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने सेना के काफिले पर किया हमला, 3 जवान घायल, सर्च आॅपरेशन जारी


अगस्त में बनी पार्टी

आपको बता दें कि नजरबंदी हटने के बाद हाफिज सईद ने संयुक्त राष्ट्र संघ से उसका नाम आतंकियों की सूची से हटाने की मांग की थी। इसके बाद ही उसे इस बात की घोषणा की थी कि वह 2018 में होने वाला आम चुनाव लड़ेगा। हालांकि, सईद कहां से चुनाव लड़ेगा इस बात का निर्णय नहीं लिया गया है। बता दें कि जमात-उद-दावा ने इसी साल अगस्त में मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) नाम की राजनीतिक पार्टी का गठन किया था। 

अमेरिका ने रखा इनाम

बता दें कि मुंबई हमले में भूमिका को लेकर सईद को अमेरिका ने साल 2008 में आतंकवादी घोषित किया था। इतना ही नहीं अमेरिका ने सईद के सिर पर 1 करोड़ डॉलर का इनाम भी रखा था। मुशर्रफ ने हाल ही में खुद को जमात उद दावा का सबसे बड़ा समर्थक बताया था।  

Todays Beets: