Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

राममंदिर-बाबरी मस्जिद पर आज से शुरू होगी ‘सुप्रीम’ सुनवाई, सभी पक्षकार पहुंचे दिल्ली

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राममंदिर-बाबरी मस्जिद पर आज से शुरू होगी ‘सुप्रीम’ सुनवाई, सभी पक्षकार पहुंचे दिल्ली

नई दिल्ली। राममंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर आज से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो रही है। इस मामले से जुड़े सभी पक्षकार अपने वकीलों के साथ दिल्ली पहुंच चुके हैं। बता दें कि पिछली सुनवाई में अदालत ने सभी पक्षकारों को दस्तावेजों के अनुवाद के साथ उपस्थित होने के निर्देश दिए थे। इस मामले में आपसी सुलह या कोर्ट के बाहर सुलह होने की संभावना काफी कम दिखाई दे रही है ऐसे में अब पूरी निगाह सुप्रीम कोर्ट पर टिकी है। 

गौरतलब है कि अयोध्या विवाद को कोर्ट के बाहर सुलझाने की कोशिश में जुटे आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर के प्रयासों को भी झटका लगा है। उनके इस प्रयास को मंदिर-मस्जिद से जुडे़ लोगांे ने विरोध करना शुरू कर दिया है। श्री श्री ने कह था कि अगर अयोध्या में राममंदिर नहीं बना तो यहां सीरिया जैसे हालात पैदा हो जाएंगे।  यहां बता दें कि पक्षकार इकबाल अंसारी ने बताया कि वह दिल्ली नहीं जा रहे हैं, जब उनकी आवश्यकता होगी तो जाएंगे। फिलहाल अपने वकीलों के संपर्क में रहकर और समाचार चैनलों के माध्यम से पूरे मामले पर नजर रखेंगे। 

ये भी पढ़ें - एक बार फिर से गुरुग्राम में कानून-व्यवस्था पर उठे सवाल, बदमाशों ने एक शख्स की गोली मारकर हत्या


सभी पक्षकारों का कहना है कि सुलह-समझौते की गुंजाइश अब दूर की बात हो गई। इसलिए हमारी आस तो अब सुप्रीम कोर्ट पर ही टिकी हुई है। पक्षकारों ने कहा कि फैसला किसी के हक में हो सभी को मान्य होगा।अयोध्या मामले के पक्षकार महंत धर्मदास ने कहा कि राममंदिर पर अब राजनीति बंद होनी चाहिए। सुलह-समझौते के नाम पर कुछ लोग अपनी दुकान चमकाने पर लगे हैं। उन्होंने कहा कि जो भी होना है वह सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से ही होना है।

 

 

Todays Beets: