Saturday, December 16, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

राजनीति दलों को मिले विदेशी चंदे की जांच 6 माह के भीतर करें, यह अंतिम मौका- दिल्ली हाईकोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजनीति दलों को मिले विदेशी चंदे की जांच 6 माह के भीतर करें, यह अंतिम मौका- दिल्ली हाईकोर्ट

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए केंद्र सरकार को आदेश दिया कि वह छह माह के भीतर भाजपा-कांग्रेस समेत अन्य पार्टियों के खातों की जांच कर उन्हें मिले विदेशी चंदे का पता लगाए। हालांकि इस दौरान कोर्ट ने केंद्र सरकार के खिलाफ भी सख्त रुख अपनाते हुए इस काम के लिए गृहमंत्रालय को 2014 के फैसले के अनुपालन के लिए अंतिम मौका देने की बात कही। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरीशंकर ने इस मामले में अब कोई कौताही न बरते जाने की बात कही। कोर्ट ने कहा कि छह माह के भीतर केंद्र सरकार इन राजनीतिक पार्टियों को विदेशों में मिले विदेशी चंदे के बारे में पता लगाकर ही रहे। 


असल में पूर्व में कोर्ट ने पाया था कि दोनों राजनीतिक दलों ने ब्रिटेन की कंपनी वेदांता रिसोर्सेज की भारतीय कंपनियों से चंदा स्वीकार कर विदेशी मुद्रा कानून का उल्लंघन किया था। एफसीआरए के नियम किसी भी राजनीति दल या विधान मंडल को विदेशी चंदा स्वीकार करने की अनुमति नहीं देते। इस सब के बाद 2014 में कोर्ट ने चुनाव आयोग और गृहमंत्रालय को आदेश दिया ता कि वे सभी राजनीतिक दलों के खातों की जांच कर उन्हें मिले विदेशी चंदे का पता लगाए। 

Todays Beets: