Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

दो सबसे बड़े दुश्मनों के बीच शांति वार्ता का साक्षी बनेगा सिंगापुर, किम और ट्रंप की मुलाकात पर खर्च होंगे 100 करोड़ रुपये

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दो सबसे बड़े दुश्मनों के बीच शांति वार्ता का साक्षी बनेगा सिंगापुर, किम और ट्रंप की मुलाकात पर खर्च होंगे 100 करोड़ रुपये

सिंगापुर। 

दुनिया के दो सबसे बड़े दुश्मन देश अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच मंगलवार को ऐतिहासिक शांति वार्ता होगी। सिंगापुर में होने वाली इस वार्ता के लिए उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सिंगापुर पहुंच चुके है। दोनो नेता 12 जून को सिंगापुर के सेंटोसा टापू के फाइव स्टार होटल कपेला में मुलाकात करेंगे। दोनों नेताओं की मुुलाकात के चलते कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। केवल सुरक्षा के लिए 50 करोड़ रुपये से ज्यादा का खर्च किए जा रहे हैं।

उत्तर कोरिया के वरिष्ठ अधिकारी किम योंग चोल ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से मुलाकात की और सम्मेलन पर सहमति बनाने में बड़ा रोल निभाया।यह पहला मौका है जब किसी अमेरिकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरियाई नेता के बीच मुलाकात होगी। उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु हथियारों के परीक्षण और पिछले दिनों परीक्षण स्थलों को नष्ट करने के बीच पूरी दुनिया की निगाहें इस सम्मेलन पर टिकी हुई हैं। कहा जा रहा है कि इस मुलाकात से ही तयह होगा कि दुनिया शांति की राह में आगे बढ़ेगी या परमाणु युद्ध की आग में झुलसेगी। मना जा रहा है कि बातचीत के एजेंडे में प्योंगयांग के परमाणु निरस्त्रीकरण का मुद्दा जोर-शोर से उठने की संभावना है। 


100 करोड़ रुपये खर्च करेगा सिंगापुर

सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली शियेन लूंग ने बताया कि उनका देश इस मुलाकात के लिए 20 मिलियन सिंगापुर डॉलर यानी 100 करोड़ रुपये खर्च करने जा रहा है। लूंग ने कहा कि एक अंतरराष्ट्रीय कदम में यह हमारा योगदान है। इस मुद्दे से हमारे हित भी जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि वह सम्मेलन पर दो करोड़ सिंगापुर डॉलर खर्च करने के इच्छुक हैं। इसमें सुरक्षा संबंधी खर्च इस रकम का आधा होगा। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन से सिंगापुर को फायदा होगा। इससे हमें प्रचार मिला है। सच्चाई यह है कि इस बैठक के लिए हमारे देश को चुना गया। हमने इसकी मांग नहीं की थी, लेकिन हम इससे सहमत हुए।

 

Todays Beets: