Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

एसएम कृष्णा के दामाद के 20 ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा, ‘केफे काॅफी डे’ के हैं मालिक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एसएम कृष्णा के दामाद के 20 ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा, ‘केफे काॅफी डे’ के हैं मालिक

बंगलुरु। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए वरिष्ठ नेता एसएम कृष्णा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। आयकर विभाग की टीम ने उनके दामाद वीजी सिद्धार्थ के घर के अलावा 20 ठिकानों पर छापा मारा है। बता दें कि सिद्धार्थ रेस्तरां चेन ‘काॅफी केफे डे’ के मालिक हैं। यहां गौर करने वाली बात है कि बंगलुरु के घर के अलावा मुंबई, चेन्नई और चिकमंगल्लूर में छापेमारी चल रही है। यहां बता दें कि एसएम कृष्णा कर्नाटक के सीएम रह चुके हैं। इसके साथ ही वे यूपीए सरकार में विदेश मंत्री जैसे अहम पदों को संभाल चुके हैं और इसी साल मार्च में वह कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं। 

मोदी की तारीफ

गौरतलब है कि भाजपा में शामिल होने के बाद कृष्णा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की काफी तारीफ की थी और कहा था कि नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक जैसा फैसला हर कोई नहीं ले सकता है। उन्होंने कहा कि आज अमेरिका, रूस और दुनिया के दूसरे बड़े राष्ट्रों के बीच देश की प्रतिष्ठा मोदी की वजह से बढ़ी है।

ये भी पढ़ें -जम्मू-कश्मीर के त्राल में हुआ ग्रेनेड ब्लास्ट, दो लोगों की मौत, कुछ जवान घायल


विधानसभा चुनाव पर नजर

आपको बता दें कि इस बात पर भी सवाल उठे थे कि आखिर इतने उम्रदराज नेता को भाजपा ने अपने साथ क्यों जोड़ा? दरअसल इसके पीछे दूसरी राजनीति है, एसएम कृष्णा जिस इलाके से ताल्लुक रखते हैं वहां पर वोक्कालिगा समाज की 18 फीसदी वोट हैं और एसएम कृष्णा की मध्य कर्नाटक पर मजबूत पकड़ है। भाजपा उनके सहारे दक्षिण भारत में अपनी पैठ बनाना चाहती है। यहां यह बात भी खास है कि कर्नाटक में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं ऐसे में भाजपा की नजर यहां की 60 सीटों में से 10से 15 सीटों के जीतने पर है। एसएम कृष्णा भाजपा की इस सोच में कहीं न कहीं फिट बैठते हैं।

ये भी पढ़ें रोहिंग्या मुलसमान को भारत में शरणार्थी न कहा जाए, वो घुसपैठिए हैं, जिन्हें बाहर किया जाएगा- र...

Todays Beets: