Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

एसएम कृष्णा के दामाद के 20 ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा, ‘केफे काॅफी डे’ के हैं मालिक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एसएम कृष्णा के दामाद के 20 ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा, ‘केफे काॅफी डे’ के हैं मालिक

बंगलुरु। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए वरिष्ठ नेता एसएम कृष्णा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। आयकर विभाग की टीम ने उनके दामाद वीजी सिद्धार्थ के घर के अलावा 20 ठिकानों पर छापा मारा है। बता दें कि सिद्धार्थ रेस्तरां चेन ‘काॅफी केफे डे’ के मालिक हैं। यहां गौर करने वाली बात है कि बंगलुरु के घर के अलावा मुंबई, चेन्नई और चिकमंगल्लूर में छापेमारी चल रही है। यहां बता दें कि एसएम कृष्णा कर्नाटक के सीएम रह चुके हैं। इसके साथ ही वे यूपीए सरकार में विदेश मंत्री जैसे अहम पदों को संभाल चुके हैं और इसी साल मार्च में वह कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं। 

मोदी की तारीफ

गौरतलब है कि भाजपा में शामिल होने के बाद कृष्णा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की काफी तारीफ की थी और कहा था कि नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक जैसा फैसला हर कोई नहीं ले सकता है। उन्होंने कहा कि आज अमेरिका, रूस और दुनिया के दूसरे बड़े राष्ट्रों के बीच देश की प्रतिष्ठा मोदी की वजह से बढ़ी है।

ये भी पढ़ें -जम्मू-कश्मीर के त्राल में हुआ ग्रेनेड ब्लास्ट, दो लोगों की मौत, कुछ जवान घायल


विधानसभा चुनाव पर नजर

आपको बता दें कि इस बात पर भी सवाल उठे थे कि आखिर इतने उम्रदराज नेता को भाजपा ने अपने साथ क्यों जोड़ा? दरअसल इसके पीछे दूसरी राजनीति है, एसएम कृष्णा जिस इलाके से ताल्लुक रखते हैं वहां पर वोक्कालिगा समाज की 18 फीसदी वोट हैं और एसएम कृष्णा की मध्य कर्नाटक पर मजबूत पकड़ है। भाजपा उनके सहारे दक्षिण भारत में अपनी पैठ बनाना चाहती है। यहां यह बात भी खास है कि कर्नाटक में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं ऐसे में भाजपा की नजर यहां की 60 सीटों में से 10से 15 सीटों के जीतने पर है। एसएम कृष्णा भाजपा की इस सोच में कहीं न कहीं फिट बैठते हैं।

ये भी पढ़ें रोहिंग्या मुलसमान को भारत में शरणार्थी न कहा जाए, वो घुसपैठिए हैं, जिन्हें बाहर किया जाएगा- र...

Todays Beets: