Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

पाक पीएम के अनुरोध को भारत ने किया स्वीकार, न्यूयाॅर्क में मिलेंगे दोनों देशों के विदेश मंत्री

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पाक पीएम के अनुरोध को भारत ने किया स्वीकार, न्यूयाॅर्क में मिलेंगे दोनों देशों के विदेश मंत्री

नई दिल्ली। पाकिस्तान के द्वारा अंतरराष्ट्रीय सीमा पर लगातार आतंकी वारदातों को अंजाम देने के बावजूद भारत ने बड़ा दिल दिखाया है। 22 सितंबर से न्यूयाॅर्क में होने वाली संयुक्त राष्ट्रसंघ की आमसभा के दौरान भारत ने पाकिस्तानी विदेश मंत्री से मुलाकात के लिए हामी भर दी है। हालांकि भारत में केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए इस कदम को लेकर राजनीति तेज हो गई है। राजनीतिक पार्टियों का कहना है कि सीमा पर सैनिकों के साथ बर्बरता करने वाले पाकिस्तान के साथ बात क्यों की जा रही है? सरकार ने सफाई देते हुए कहा है कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच सिर्फ मुलाकात होगी, कोई औपचारिक बात नहीं होगी।

गौरतलब है कि भारत के द्वारा उठाए गए इस कदम के बाद अब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अगले हफ्ते न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र की आम सभा से इतर अपने पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी से मिलेंगी। बता दें कि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के खत में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की मुलाकात का प्रस्ताव रखा था जिसके बाद भारत ने उसे स्वीकार कर लिया है। 

ये भी पढ़ें - बांदीपोरा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, लश्कर के 2 आतंकी ढेर 


यहां बता दें कि विदेश मामलों के जानकारों का कहना है कि पाकिस्तान ऐसा कर दुनिया को यह दिखाना चाहता है कि वह अपने पड़ोसी देशों के साथ संबंध बेहतर करना चाहता है। वहीं भारत अपनी कूटनीति से पाकिस्तान को एक बार फिर से दुनिया में बेनकाब करना चाहता है। 

 

Todays Beets: