Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

संयुक्त राष्ट्र में भारत की बड़ी जीत, सबसे ज्यादा अंतर से मानवाधिकार परिषद का बना सदस्य 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
संयुक्त राष्ट्र में भारत की बड़ी जीत, सबसे ज्यादा अंतर से मानवाधिकार परिषद का बना सदस्य 

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष मानवाधिकार संस्था में देर शाम एक बड़ी सफलता मिली है।  भारत को 3 साल के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का सदस्य चुन लिया गया है। संयुक्त राष्ट्र की 193 सदस्यीय महासभा में एशिया-प्रशांत को 188 वोट प्राप्त हुए हैं। बता दें कि परिषद के सदस्य गुप्त मतदान द्वारा पूर्ण बहुमत के आधार पर चुने जाते हैं। परिषद में चुने जाने के लिए किसी भी देश को कम से कम 97 वोटों की जरूरत होती है। भारत का कार्यकाल एक जनवरी 2019 से शुरू होगा। गुप्त मतदान के जरिए 18 नए सदस्यों को चुना गया है।

गौरतलब है कि एशिया-प्रशांत क्षेत्र के मानवाधिकार परिषद में कुछ 5 सीटें हैं। इस सीट के लिए भारत के अलावा बहरीन, बांग्लादेश, फिजी और फिलीपीन ने अपना नामांकन भरा था। पांचों सीटों के लिए अलग दावेदार होने की वजह से इन सभी का निर्विरोध चुना जाना तय था। बता दें कि मानवाधिकार परिषद में भारत का कार्यकाल 1 जनवरी, 2019 से शुरू होकर 3 साल तक चलेगा। गौर करने वाली बात है कि भारत पहले भी 2011-2014 और 2014 से 2017 दो बार मानवाधिकार परिषद का सदस्य रह चुका है। भारत का अंतिम कार्यकाल 31 दिसंबर, 2017 में समाप्त हुआ था।


ये भी पढ़ें - पुलवामा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 1 को किया ढेर 1 फरार, सर्च आॅपरेशन जारी

यहां बता दें कि चुनाव से पहले संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने ट्वीट किया कर कहा था कि ‘बहरीन, बांग्लादेश, फिजी, भारत और फिलीपीन ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में एशिया-प्रशांत क्षेत्र की 5 सीटों के लिए दावा पेश किया।’’ बता दें कि गुप्त मतदान के जरिए 18 नए सदस्यों को चुना गया है।  परिषद के सदस्यों ने गुप्त मतदान किया और भारत को सबसे ज्यादा वोट देकर परिषद का सदस्य चुना। बता दें कि परिषद में चुने जाने के लिए किसी भी देश को कम से कम 97 वोटों की जरूरत होती है।

Todays Beets: