Friday, December 14, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

सेना के जवान में उभरा असंतोष, गलती से एलओसी पार करने वाले जवान ने की समयपूर्व रिटायरमेंट की मांग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सेना के जवान में उभरा असंतोष, गलती से एलओसी पार करने वाले जवान ने की समयपूर्व रिटायरमेंट की मांग

नई दिल्ली। भारतीय सेना के जवान में एक बार फिर से असंतोष की भावना उठनी शुरू हो गई है। सितंबर 2016 में की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद गलती से नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार चले गए भारतीय सैनिक चंदू बाबूलाल चव्हाण ने समय से पहले ही रिटायरमेंट की मांग की है। बता दें कि चंदू बाबूलाल पाकिस्तान में लगभग 4 महीने तक हिरासत में भी रहा था। बताया जा रहा है कि चंदूलाल ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर कहा कि वह काफी परेशान हैं और नौकरी नहीं करना चाहते हैं, उन्हें सेवानिवृत्त किया जाए। 

गौरतलब है कि 37 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान चंदू 29 सितंबर, 2016 को भारत के द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद लापता हो गए थे। बाद में पता चला कि वह गलती से नियंत्रण रेखा को पार कर पाकिस्तान की सीमा में चले गए थे और पाकिस्तानी सेना ने उन्हें अपनी हिरासत में ले लिया था। भारतीय सेना पाकिस्तान के साथ उच्च स्तरीय बैठक कर 4 महीने के बाद उसे भारत वापस लाने में कामयाब हुई थी। वतन वापसी के बाद चंदू को सैन्य अस्पताल के मनोरोग वार्ड में भर्ती कराया गया था। 


ये भी पढ़ें - यूपी में भाजपा विधायकों और नेताओं से मांगी जा रही 10 लाख की रंगदारी, जान से मारने की धमकी भी

यहां बता दें कि चंदू बाबूलाल की भारत वापसी के बाद सेना के द्वारा अनुशासनात्मक कार्रवाई के तहत सजा भी दी गई थी। हालांकि बाद में उनको महाराष्ट्र के अहमदनगर में सशस्त्र कोर केंद्र में स्थानांतरित कर दिया गया। शनिवार को अस्पताल से छूटने के बाद चंदू बाबू लाल चव्हाण ने कहा कि पिछले 2 सालों में उसके साथ जो भी हुआ उससे वह काफी परेशान है और वह अब और नौकरी नहीं करना चाहता है। उसने वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर समयपूर्व सेवानिवृत्ति की मांग की है। 

Todays Beets: