Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

सेना के जवान में उभरा असंतोष, गलती से एलओसी पार करने वाले जवान ने की समयपूर्व रिटायरमेंट की मांग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सेना के जवान में उभरा असंतोष, गलती से एलओसी पार करने वाले जवान ने की समयपूर्व रिटायरमेंट की मांग

नई दिल्ली। भारतीय सेना के जवान में एक बार फिर से असंतोष की भावना उठनी शुरू हो गई है। सितंबर 2016 में की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद गलती से नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार चले गए भारतीय सैनिक चंदू बाबूलाल चव्हाण ने समय से पहले ही रिटायरमेंट की मांग की है। बता दें कि चंदू बाबूलाल पाकिस्तान में लगभग 4 महीने तक हिरासत में भी रहा था। बताया जा रहा है कि चंदूलाल ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर कहा कि वह काफी परेशान हैं और नौकरी नहीं करना चाहते हैं, उन्हें सेवानिवृत्त किया जाए। 

गौरतलब है कि 37 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान चंदू 29 सितंबर, 2016 को भारत के द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद लापता हो गए थे। बाद में पता चला कि वह गलती से नियंत्रण रेखा को पार कर पाकिस्तान की सीमा में चले गए थे और पाकिस्तानी सेना ने उन्हें अपनी हिरासत में ले लिया था। भारतीय सेना पाकिस्तान के साथ उच्च स्तरीय बैठक कर 4 महीने के बाद उसे भारत वापस लाने में कामयाब हुई थी। वतन वापसी के बाद चंदू को सैन्य अस्पताल के मनोरोग वार्ड में भर्ती कराया गया था। 


ये भी पढ़ें - यूपी में भाजपा विधायकों और नेताओं से मांगी जा रही 10 लाख की रंगदारी, जान से मारने की धमकी भी

यहां बता दें कि चंदू बाबूलाल की भारत वापसी के बाद सेना के द्वारा अनुशासनात्मक कार्रवाई के तहत सजा भी दी गई थी। हालांकि बाद में उनको महाराष्ट्र के अहमदनगर में सशस्त्र कोर केंद्र में स्थानांतरित कर दिया गया। शनिवार को अस्पताल से छूटने के बाद चंदू बाबू लाल चव्हाण ने कहा कि पिछले 2 सालों में उसके साथ जो भी हुआ उससे वह काफी परेशान है और वह अब और नौकरी नहीं करना चाहता है। उसने वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर समयपूर्व सेवानिवृत्ति की मांग की है। 

Todays Beets: