Tuesday, September 25, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

LIVE- जंतर-मंतर नहीं संसद मार्ग पर शुरू हुई जिग्नेश की रैली, कुर्सियां खाली, नहीं नजर आए भाषण सुनने वाले 

अंग्वाल संवाददाता
LIVE- जंतर-मंतर नहीं संसद मार्ग पर शुरू हुई जिग्नेश की रैली, कुर्सियां खाली, नहीं नजर आए भाषण सुनने वाले 

नई दिल्ली । दलित नेता और गुजरात विधानसभा सदस्य जिग्नेश मेवाणी ने मंगलवार को आखिरकार पुलिस की इजाजत के बगैर दिल्ली में हुंकार रैली की, हालांकि जंतर-मंतर की जगह उन्होंने रैली के लिए आयोजन स्थल को बदले हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर ही आयोजन को अंजाम दे डाला। गणतंत्रण दिवस की सुरक्षा और एनजीटी द्वारा जंतर-मंतर पर रैली न करने के आदेश के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने उन्हें रैली की इजाजत नहीं दी थी, बावजूद इसके जिग्नेश मेवाणी, अपने साथियों के साथ रैली स्थर पर न केवल पहुंचे, बल्कि उन्होंने हुंकार रैली को अंजाम भी दिया। इस सब के बावजूद जिग्नेश के लिए निराशाजनक यह रहा कि उन्हें सुनने वालों के लिए बिछाई कुर्सियां खाली ही रह गई। बहुत की कम संख्या में उनके समर्थक संसद मार्ग पर पहुंचे थे। हालांकि इस दौरान कुछ लोगों का कहना था कि रैली रद्द होने की आशंका के मद्देनजर कई लोग यहां नहीं आए। 

 

ये भी पढ़ें- वर्ष 2000 में जन्में बच्चों को लेकर मोदी सरकार ने बनाई एक खास रणनीति, 'मिशन-2019' के लिए 2 करोड़ युवा नजर में

आवाज दबा रही है मोदी सरकार- जिग्नेश

बता दें कि जिग्नेश मेवाणी की रैली को देखते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर भारी सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है। मेवाणी के समर्थकों को कई जगहों पर रोका गया। मेवाणी और किसान नेता अखिल गोगोई युवा हुंकार रैली और जनसभा से पहले अंबेडकर पार्क पहुंचे और वहां अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान मेवाणी ने कहा कि मोदी सरकार उनकी आवाज दबाने की कोशिश कर रही है और अगर दिल्ली पुलिस ने कोई कार्रवाई की तो दुर्भाग्यपूर्ण होगा। मेवाणी ने कहा, 'भीम सेना के चंद्रशेखर को निशाना बनाया गया। संविधान के दायरे में रहकर हमारा संघर्ष और आंदोलन जारी रहेगा।

 


ये भी पढ़ें- पुलिस के तीन सुरक्षा चक्र को चकमा देकर जिग्नेश जंतर-मंतर के करीब पहुंचे, हंगामे के आसार

जंतर मंतर नहीं संसद मार्ग पर हुई रैली

जिग्नेश मेवाणी और अखिल गोगोई युवा हुंकार रैली और जनसभा यूं तो जंतर मंतर पर प्रस्तावित थी लेकिन बाद में रैली पार्लियामेंट स्ट्रीट पर हुई। राजधानी दिल्ली में प्रस्तावित हुंकार रैली से पहले ही विवाद हो गया था। दिल्ली पुलिस ने एनजीटी के आदेश का हवाला देते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर मेवाणी की रैली को मंजूरी नहीं दी है। वहीं मेवाणी की रैली को देखते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर भारी सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है। 

मेवाणी के खिलाफ पोस्टर

पार्लियामेंट स्ट्रीट पर मेवाणी के खिलाफ पोस्टर्स लगे हैं, जिसमें मेवाणी पर भड़काऊ भाषण देने, नक्सलियों से संबंध और जातीय हिंसा करवाने के आरोप लगाए गए हैं। दिल्ली पुलिस का कहना है कि उसने पूरी तैयारी कर रखी है, जैसी भी स्थिति होगी, उससे निपटने के लिए सारी तैयारी है। पुलिस के मुताबिक आयोजकों को रैली के लिए वैकल्पिक जगह बताई गई है और सभी पक्षों से बातचीत चल रही है।

Todays Beets: