Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

LIVE- जंतर-मंतर नहीं संसद मार्ग पर शुरू हुई जिग्नेश की रैली, कुर्सियां खाली, नहीं नजर आए भाषण सुनने वाले 

अंग्वाल संवाददाता
LIVE- जंतर-मंतर नहीं संसद मार्ग पर शुरू हुई जिग्नेश की रैली, कुर्सियां खाली, नहीं नजर आए भाषण सुनने वाले 

नई दिल्ली । दलित नेता और गुजरात विधानसभा सदस्य जिग्नेश मेवाणी ने मंगलवार को आखिरकार पुलिस की इजाजत के बगैर दिल्ली में हुंकार रैली की, हालांकि जंतर-मंतर की जगह उन्होंने रैली के लिए आयोजन स्थल को बदले हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर ही आयोजन को अंजाम दे डाला। गणतंत्रण दिवस की सुरक्षा और एनजीटी द्वारा जंतर-मंतर पर रैली न करने के आदेश के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने उन्हें रैली की इजाजत नहीं दी थी, बावजूद इसके जिग्नेश मेवाणी, अपने साथियों के साथ रैली स्थर पर न केवल पहुंचे, बल्कि उन्होंने हुंकार रैली को अंजाम भी दिया। इस सब के बावजूद जिग्नेश के लिए निराशाजनक यह रहा कि उन्हें सुनने वालों के लिए बिछाई कुर्सियां खाली ही रह गई। बहुत की कम संख्या में उनके समर्थक संसद मार्ग पर पहुंचे थे। हालांकि इस दौरान कुछ लोगों का कहना था कि रैली रद्द होने की आशंका के मद्देनजर कई लोग यहां नहीं आए। 

 

ये भी पढ़ें- वर्ष 2000 में जन्में बच्चों को लेकर मोदी सरकार ने बनाई एक खास रणनीति, 'मिशन-2019' के लिए 2 करोड़ युवा नजर में

आवाज दबा रही है मोदी सरकार- जिग्नेश

बता दें कि जिग्नेश मेवाणी की रैली को देखते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर भारी सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है। मेवाणी के समर्थकों को कई जगहों पर रोका गया। मेवाणी और किसान नेता अखिल गोगोई युवा हुंकार रैली और जनसभा से पहले अंबेडकर पार्क पहुंचे और वहां अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान मेवाणी ने कहा कि मोदी सरकार उनकी आवाज दबाने की कोशिश कर रही है और अगर दिल्ली पुलिस ने कोई कार्रवाई की तो दुर्भाग्यपूर्ण होगा। मेवाणी ने कहा, 'भीम सेना के चंद्रशेखर को निशाना बनाया गया। संविधान के दायरे में रहकर हमारा संघर्ष और आंदोलन जारी रहेगा।

 


ये भी पढ़ें- पुलिस के तीन सुरक्षा चक्र को चकमा देकर जिग्नेश जंतर-मंतर के करीब पहुंचे, हंगामे के आसार

जंतर मंतर नहीं संसद मार्ग पर हुई रैली

जिग्नेश मेवाणी और अखिल गोगोई युवा हुंकार रैली और जनसभा यूं तो जंतर मंतर पर प्रस्तावित थी लेकिन बाद में रैली पार्लियामेंट स्ट्रीट पर हुई। राजधानी दिल्ली में प्रस्तावित हुंकार रैली से पहले ही विवाद हो गया था। दिल्ली पुलिस ने एनजीटी के आदेश का हवाला देते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर मेवाणी की रैली को मंजूरी नहीं दी है। वहीं मेवाणी की रैली को देखते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर भारी सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है। 

मेवाणी के खिलाफ पोस्टर

पार्लियामेंट स्ट्रीट पर मेवाणी के खिलाफ पोस्टर्स लगे हैं, जिसमें मेवाणी पर भड़काऊ भाषण देने, नक्सलियों से संबंध और जातीय हिंसा करवाने के आरोप लगाए गए हैं। दिल्ली पुलिस का कहना है कि उसने पूरी तैयारी कर रखी है, जैसी भी स्थिति होगी, उससे निपटने के लिए सारी तैयारी है। पुलिस के मुताबिक आयोजकों को रैली के लिए वैकल्पिक जगह बताई गई है और सभी पक्षों से बातचीत चल रही है।

Todays Beets: