Sunday, June 24, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

वित्तीय परेशानी से जूझ रहे जेपी एसोसिएट्स ने सुप्रीम कोर्ट से यमुना एक्सप्रेसवे की परियोजना से की हटने की मांग 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वित्तीय परेशानी से जूझ रहे जेपी एसोसिएट्स ने सुप्रीम कोर्ट से यमुना एक्सप्रेसवे की परियोजना से की हटने की मांग 

नई दिल्ली। दिवालिया घोषित हो चुके रियल इस्टेट की एक और कंपनी जेपी ग्रुप ने यमुना एक्सप्रेसवे की परियोजना से खुद ही हटने का मन बनाया है। जेपी ग्रुप ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि वह धन जुटाने के लिए करोड़ों रुपये की यमुना एक्सप्रेसवे परियोजना से अलग होना चाहता है। जेपी ग्रुप ने अदालत से अपने 2500 करोड़ रुपये की पेशकश को किसी अन्य कंपनी को देने की अनुमति मांगी है।  

परियोजना से हटने की मांग

गौरतलब है कि जेपी एसोसिएट्स को इसकी अनुमति दी जाय या नहीं, इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा,न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड की पीठ 23 अक्तूबर को करेगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने जेपी इंफ्राटेक की मूल कंपनी जेपी एसोसिएट्स से घर खरीददारों को भुगतान करने के लिए 27 अक्तूबर तक न्यायालय की रजिस्ट्री में 2,000 करोड़ रुपये जमा कराने का निर्देश दिए थे। 

ये भी पढ़ें - बैंक खातों को 31 दिसंबर से पहले आधार से करा लें लिंक नहीं तो बढ़ सकती हैं मुश्किलें, लेन-देन प...


खरीदारों ने दायर की याचिका

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में जेपी द्वारा नोएडा में तैयार की गई 40 से ज्यादा खरीदारों द्वारा दासर याचिका पर सुनवाई कर रहा है जिन्होंने दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता, 2016 के कुछ प्रावधानों को चुनौती दी थी।  यहां यह भी बता दें कि उच्चतम न्यायालय ने 11 सितंबर को जेपी इंफ्राटेक लिमिटेड के खिलाफ दिवालियापन की कार्यवाही फिर से शुरू की थी और उसके प्रबंधन की जिम्मेदारी नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल द्वारा नियुक्त अंतरिम रेजोल्यूशन प्रोफेशनल (आईआरपी) को तुरंत प्रभाव से देने का आदेश दिया था। 

 

 

Todays Beets: