Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

Live-- सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने मुख्य न्यायाधीश पर लगाए कई आरोप, पीएम ने बुलाया कानून मंत्री को

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Live-- सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने मुख्य न्यायाधीश पर लगाए कई आरोप, पीएम ने बुलाया कानून मंत्री को

नई दिल्ली। न्यायपालिका के इतिहास में शुक्रवार का दिन ऐतिहासिक रहा। सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने पहली बार पत्रकारों से बातचीत की है। यह मीटिंग जस्टिस चेलामेश्वर के घर पर हुई। इस मीटिंग में जस्टिस चेलामेश्वर, जस्टिस के जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस मदन लोकुर शामिल थे। पत्रकारों से बात करते हुए जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि कोर्ट प्रशासन की कार्रवाई सही तरीके से नहीं चल रही है ऐसे में हमने मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर बताया लेकिन बात नहीं सुनी गई। इसके बाद हमारे पास कोई रास्ता नहीं बचा है सिवाय मीडिया के सामने अपनी बात रखने के। इस मामले के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानून मंत्री को बुलाया है। 


आपको बता दें जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि हमने मुख्य न्यायाधीश से कोर्ट में चल रही अनियमितता के बारे में बात की थी। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों को लेकर भी सवाल उठाते हुए कहा कि उन्हें किस तरह से केस दिए गए। उनका कहना है कि हम नहीं चाहते हैं कि हमारे किसी भी निर्णय पर 20 सालों के बाद सवाल उठाया जाए कि हमने अपनी आत्मा को बेच दिया और देश के संविधान का कोई ध्यान नहीं रखा। जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश के बारे में देश को फैसला करना चाहिए। बता दें कि जस्टिस चेलामेश्वर सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्ठ जज हैं।  

Todays Beets: