Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

Live-- सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने मुख्य न्यायाधीश पर लगाए कई आरोप, पीएम ने बुलाया कानून मंत्री को

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Live-- सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने मुख्य न्यायाधीश पर लगाए कई आरोप, पीएम ने बुलाया कानून मंत्री को

नई दिल्ली। न्यायपालिका के इतिहास में शुक्रवार का दिन ऐतिहासिक रहा। सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने पहली बार पत्रकारों से बातचीत की है। यह मीटिंग जस्टिस चेलामेश्वर के घर पर हुई। इस मीटिंग में जस्टिस चेलामेश्वर, जस्टिस के जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस मदन लोकुर शामिल थे। पत्रकारों से बात करते हुए जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि कोर्ट प्रशासन की कार्रवाई सही तरीके से नहीं चल रही है ऐसे में हमने मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर बताया लेकिन बात नहीं सुनी गई। इसके बाद हमारे पास कोई रास्ता नहीं बचा है सिवाय मीडिया के सामने अपनी बात रखने के। इस मामले के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानून मंत्री को बुलाया है। 


आपको बता दें जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि हमने मुख्य न्यायाधीश से कोर्ट में चल रही अनियमितता के बारे में बात की थी। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों को लेकर भी सवाल उठाते हुए कहा कि उन्हें किस तरह से केस दिए गए। उनका कहना है कि हम नहीं चाहते हैं कि हमारे किसी भी निर्णय पर 20 सालों के बाद सवाल उठाया जाए कि हमने अपनी आत्मा को बेच दिया और देश के संविधान का कोई ध्यान नहीं रखा। जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश के बारे में देश को फैसला करना चाहिए। बता दें कि जस्टिस चेलामेश्वर सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्ठ जज हैं।  

Todays Beets: