Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

जस्टिस दीपक मिश्रा होंगे देश के अगले प्रधान न्यायाधीश, 28 अगस्त को लेंगे शपथ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जस्टिस दीपक मिश्रा होंगे देश के अगले प्रधान न्यायाधीश, 28 अगस्त को लेंगे शपथ

नई दिल्ली।

सुप्रीम कार्ट के न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्राा देश के अगले प्रधान न्यायाधीश(सीजेआई) बनेंगे। मंगलवार को केंद्र सरकार ने अधिसूचना जारी कर उनकी नियुक्ति की घोषणा कर दी। जस्टिस  मिश्रा 28 अगस्त को प्रधान न्यायाधीश के पद की शपथ लेंगे। वह वर्तमान प्रधान न्यायाधीश जस्टिस जेएस खेहर का स्थान संभालेंगे। जस्टिस खेहर 27 अगस्त को रिटायर हो रहे हैं। जस्टिस मिश्राा 2 अक्टूबर 2018 तक प्रधान न्यायाधीश रहेंगे।

जस्टिस मिश्रा मौजूदा सीजेआई के बाद इस समय शीर्ष अदालत में सबसे वरिष्ठ जज हैं।  जस्टिस दीपक मिश्रा (63) देश के 45वें प्रधान न्यायाधीश होंगे। बता दें कि वह ओडिशा से सीजेआई बनने वाले तीसरे जज हैं। उनसे पहले ओडिशा से संबंध रखने वाले जस्टिस रंगनाथ मिश्रा और जीबी पटनायक भी इस पद को संभाल चुके हैं।

सुना चुके हैं कई ऐतिहासिक फैसले


जस्टिस दीपक मिश्रा के नाम कई ऐतिहासिक फैसले हैं। इनमें याकूब मेमन को आधी रात को फांसी की सजा सुनाने, निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा सुनाने जैसे मामले शामिल है। याकूब मेमन को सजा सुनाने पर जस्टिस मिश्रा को धमकी भरा पत्र भी मिला था, जिसमें लाल स्याही से उन्हे सबक सिखाने की बात लिखी गई थी। जस्टिस मिश्रा ने देशभर के सिनेमाघरों में राष्ट्रीय गान के आदेश जारी किए थे।

इसके अलावा इस समय उनकी बैंच बीसीसीआई में सुधार, नीट और सुब्रत राय सहारा सेबी विवाद को सुन रही है। 11 अगस्त को होने वाली राम जन्मभूमि विवाद की सुनवाई के लिए बनाई गई स्पेशल बेंच की भी वे अगुवाई कर रहे हैं।

कौन हैं जस्टिस दीपक मिश्रा

जस्टिस दीपक मिश्रा का जन्म 3 अक्टूबर 1953 को हुआ था। वह 17 जनवरी 1996 को ओडिशा हाई कोर्ट में एडिशनल जज बने। इसके बाद स्थानांतरित होकर 3 मार्च 1997 को मप्र हाई कोर्ट आए। इसी साल 19 दिसंबर को स्थायी जज बने। 23 दिसंबर 2009 में उन्होंने पटना हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश का पदभार संभाला। 24 मई 2010 को उन्हें दिल्ली हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया। उन्हें 10 अक्टूबर 2011 को सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर पदोन्नति दी गई।

Todays Beets: