Thursday, May 24, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

LIVE: कर्नाटक के राजनीतिक भविष्य पर 'सुप्रीम' मुहर, 28 घंटे के अंदर बहुमत साबित करे भाजपा

अंग्वाल न्यूज डेस्क

नई दिल्ली। कर्नाटक की राजनीति के भविष्य का फैसला शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने कर दिया है।  कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि येदियुरप्पा की सरकार को शनिवार शाम 4 बजे  करने का आदेश दिया है।  दोनों ही पार्टियों की तरफ से पेश हुए वकील ने अपनी-अपनी दलीलें दी हैं। कांग्रेस की तरफ से पेश हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने राज्यपाल के फैसले पर ही सवाल उठा दिया और कहा कि जब उनके पास बहुमत नहीं था तो सरकार बनाने की न्योता कैसे दिया गया? सुप्रीम कोर्ट ने इस पर भी सवाल पूछा कि येदियुरप्पा को न्योता कैसे दिया गया, इस पर भाजपा की तरफ से पेश हुए वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि राज्यपाल ने अपने विवेकाधिकार का इस्तेमाल करते हुए भाजपा को निमंत्रण दिया  था।

ये भी पढ़ें - कर्नाटक राजनीतिः भाजपा से डरी कांग्रेस और जेडीएस, विधायकों को बंगलुरु से हैदराबाद किया शिफ्ट


गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि हमकोई राजनीतिक लड़ाई में नहीं पड़ रहे हैं। जस्टिस सीकरी ने अपनी टिप्पणी में कहा कि विवाद को आगे बढ़ाने से बेहतर है कि बहुमत का परीक्षण कल ही हो। जस्टिस बोवडे ने भी यह कहा कि जिसे बहुमत मिला है वह बहुमत साबित करे। उन्होंने कहा कि आखिरी फैसला विधानसभा में ही होना चाहिए। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिए गए आदेश के बाद अब येदियुरप्पा को 24 घंटे के अंदर बहुमत साबित करना होगा। सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस और जेडीएस के विधायक ने कहा कि वे कल भी बहुमत परीक्षण के लिए तैयार हैं। वहीं भाजपा के वकील मुकुल रोहतगी ने इसके लिए कम से कम एक सप्ताह का समय देने की मांग की थी। 

Todays Beets: