Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

अब कभी क्रिकेट नहीं खेल पाएंगे श्रीसंत, हाईकोर्ट ने आजीवन प्रतिबंध बरकरार रखा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब कभी क्रिकेट नहीं खेल पाएंगे श्रीसंत, हाईकोर्ट ने आजीवन प्रतिबंध बरकरार रखा

नई दिल्ली। कभी भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे तेज गेंदबाज श्रीसंत अब कभी क्रिकेट नहीं खेल पाएंगे। केरल उच्च न्यायालय की खंडपीठ ने 2013 आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में क्रिकेटर एस श्रीसंत पर भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को बरकरार रखा है। केरल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश नवनीति प्रसाद सिंह और न्यायमूर्ति राजा विजयरावन की पीठ ने एकल न्यायाधीश की पीठ के खिलाफ बीसीसीआई की याचिका पर यह फैसला सुनाया।

एकलपीठ के फैसले को पलटा

यहां बता दें कि इससे पहले न्यायमूर्ति ए मोहम्मद मुश्ताक की एकल पीठ ने 7 अगस्त को श्रीसंत पर लगे बीसीसीआई के आजीवन प्रतिबंध को हटा दिया था और बोर्ड द्वारा उनके खिलाफ चलाई जा रही सभी तरह कार्यवाही पर भी रोक लगा दी थी। संयुक्त खंडपीठ ने अपने फैसले में एकल पीठ के फैसले को रद्द करते हुए कहा कि खेल के साथ न्याय नहीं हुआ। गौरतलब है कि बीसीसीआई ने सबूतों के आधार पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था।  


ये भी पढ़ें - ताजमहल विवाद में कूदे एक और भाजपा नेता, कहा-मंदिर तोड़कर मजार बनवा दिया

इन पर भी लगे आरोप 

स्पाॅट फिक्सिंग के मामले में साल 2015 में पटियाला हाउस कोर्ट ने अंकित चव्हाण और अजित चंदीला समेत 36 आरोपियों को आपराधिक मामले से बरी कर दिया था।  आपको बता दें कि श्रीसंत ने 2015 में अपना पहला एकदिवसीय मैच श्रीलंका के खिलाफ खेला था जबकि पहला टेस्ट मैच 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था।   

Todays Beets: