Friday, December 14, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

कर्नाटक की विधानसभा में शक्ति परीक्षण से पहले स्पीकर को लेकर भाजपा-जेडीएस आमने-सामने, कुमारस्वामी बोले कोई टेंशन नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कर्नाटक की विधानसभा में शक्ति परीक्षण से पहले स्पीकर को लेकर भाजपा-जेडीएस आमने-सामने, कुमारस्वामी बोले कोई टेंशन नहीं

नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा में शुक्रवार को मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी अपना बहुमत साबित करेंगे। विधानसभा में शक्ति परीक्षण से पहले विधानसभा अध्यक्ष के पद को लेकर भाजपा और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन एक बार फिर से आमने-सामने आ गए हैं। कांग्रेस से अध्यक्ष पद के लिए पूर्व विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार ने गुरुवार को अपना नामांकन भरा है, जबकि भाजपा ने भी इसके लिए ताल ठोंकते हुए पूर्व मंत्री सुरेश कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया है। बता दें कि गठबंधन वाली सरकार के अंदर अभी भी भाजपा का खौफ बरकरार है, इसी का नतीजा है कि दोनांे पार्टियों ने अपने विधायकों को अभी भी होटलों में ही कैद कर रखा है। 

ये भी पढ़ें - धानमंत्री नरेन्द्र मोदी झारखंड को देंगे कई परियोजनाओं की सौगात, विश्व भारती विश्वविद्यालय ...


गौरतलब है कि कर्नाटक में 15 मई को आए नतीजों में किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। भाजपा के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने की वजह से राज्यपाल वजू भाई वाला ने उसे सरकार बनाने का न्यौता दिया। भाजपा के बीएस येदियुरप्पा ने 17 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली लेकिन 19 मई को सदन में बहुमत का आंकड़ा नहीं होने की वजह से विश्वासमत सिद्ध करने से पहले ही इस्तीफा दे दिया। इसके बाद जेडीएस के कुमारस्वामी ने 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। 

बता दें कि जेडीएस कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना रही है लेकिन जेडीएस के नेता भी अभी इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं हैं कि दोनों गठबंधन मिलकर 5 सालों तक एक स्थाई सरकार दे पाएंगे। हालांकि मुख्यमंत्री कुमारस्वामी पहले ही कह चुके हैं कि उन्हें किसी बात की टेंशन नहीं है और वे अच्छी तरह से सरकार चलाएंगे।  

Todays Beets: