Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

कर्नाटक की विधानसभा में शक्ति परीक्षण से पहले स्पीकर को लेकर भाजपा-जेडीएस आमने-सामने, कुमारस्वामी बोले कोई टेंशन नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कर्नाटक की विधानसभा में शक्ति परीक्षण से पहले स्पीकर को लेकर भाजपा-जेडीएस आमने-सामने, कुमारस्वामी बोले कोई टेंशन नहीं

नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा में शुक्रवार को मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी अपना बहुमत साबित करेंगे। विधानसभा में शक्ति परीक्षण से पहले विधानसभा अध्यक्ष के पद को लेकर भाजपा और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन एक बार फिर से आमने-सामने आ गए हैं। कांग्रेस से अध्यक्ष पद के लिए पूर्व विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार ने गुरुवार को अपना नामांकन भरा है, जबकि भाजपा ने भी इसके लिए ताल ठोंकते हुए पूर्व मंत्री सुरेश कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया है। बता दें कि गठबंधन वाली सरकार के अंदर अभी भी भाजपा का खौफ बरकरार है, इसी का नतीजा है कि दोनांे पार्टियों ने अपने विधायकों को अभी भी होटलों में ही कैद कर रखा है। 

ये भी पढ़ें - धानमंत्री नरेन्द्र मोदी झारखंड को देंगे कई परियोजनाओं की सौगात, विश्व भारती विश्वविद्यालय ...


गौरतलब है कि कर्नाटक में 15 मई को आए नतीजों में किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। भाजपा के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने की वजह से राज्यपाल वजू भाई वाला ने उसे सरकार बनाने का न्यौता दिया। भाजपा के बीएस येदियुरप्पा ने 17 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली लेकिन 19 मई को सदन में बहुमत का आंकड़ा नहीं होने की वजह से विश्वासमत सिद्ध करने से पहले ही इस्तीफा दे दिया। इसके बाद जेडीएस के कुमारस्वामी ने 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। 

बता दें कि जेडीएस कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना रही है लेकिन जेडीएस के नेता भी अभी इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं हैं कि दोनों गठबंधन मिलकर 5 सालों तक एक स्थाई सरकार दे पाएंगे। हालांकि मुख्यमंत्री कुमारस्वामी पहले ही कह चुके हैं कि उन्हें किसी बात की टेंशन नहीं है और वे अच्छी तरह से सरकार चलाएंगे।  

Todays Beets: