Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

भारत में लगने वाला कुंभ मेला यूनेस्को की विरासत सूची में हुआ शामिल, मिलेगी वैश्विक पहचान 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारत में लगने वाला कुंभ मेला यूनेस्को की विरासत सूची में हुआ शामिल, मिलेगी वैश्विक पहचान 

नई दिल्ली। भारत में लगने वाले कुंभ मेले को यूनेस्को ने अपनी ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की प्रतिनिधि सूची’ में शामिल किया है। यूनेस्को संगठन ने ट्विटर पर यह जानकारी दी है। बता दें कि संयुक्त राष्ट्र के सांस्कृतिक निकाय की विश्व धरोहर समिति ने दक्षिण कोरिया के जेजू द्वीप पर हुए अपने 12वें सत्र में कुंभ मेला को इस सूची में रखने की मंजूरी दी। यहां गौर करने वाली बात है कि स्पेन की फ्लेमेंको नृत्य से लेकर इंडोनेशिया की बाटिक कला तक 350 से अधिक परंपराएं और कलारूप आदि इस सूची में पहले से शामिल हैं। 

पौराणिक मान्यता

गौरतलब है कि यूनेस्को की सांस्कृतिक विरासत की प्रतिनिधि सूची में तुर्की की तेल कुश्ती और मंगोलिया की ऊंटों के लिए मनाई जाने वाली रस्म को भी इसमें जगह दी गई है। बता दें कि 12 सालों में एक बार लगने वाला महाकुंभ मेला हिन्दुओं के लिए एक खास मौका होता है। ऐसी मान्यता है कि देवासुर संग्राम के दौरान अमृतकलश से अमृत की कुछ बूंदें छलक गई थीं और वे बूंदें पृथ्वी पर प्रयाग (इलाहाबाद), नासिक, उज्जैन और हरिद्वार पर गिरी थीं। अमृत गिरने के कारण यहां हर चार साल पर कुंभ मेला लगता है।

ये भी पढ़ें - घोषणा पत्र जारी न करने पर हार्दिक का भाजपा पर वार, कहा- मेरी सीडी बनाने में बिजी थी, घोषणा पत...


2013 में लगा था पिछला महाकुंभ इलाहाबाद में जो 55 दिन तक चला था 

10 करोड़ लोगों ने इस दौरान गंगा नदी के पवित्र जल में डुबकी लगाई थी

12 हजार पुलिस अधिकारी तैनात थे मेले में व्यवस्था बनाए रखने के लिए

Todays Beets: