Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

चारा घोटाले मामले में सीबीआई की कोर्ट में बोले लालू, ओपन जेल गए तो नरसंहार हो जाएगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क

चारा घोटाले मामले में सीबीआई की कोर्ट में बोले लालू, ओपन जेल गए तो नरसंहार हो जाएगा

रांची। चारा घोटाले में सजा पा चुके बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद को डोरंडा और दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में शुक्रवार को सीबीआई की विशेष अदालत में पेश हुए। यहां उन्हें पहले डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी वाले मामले में प्रदीप सिंह की अदालत में पेश किया गया इसके बाद दुमका कोषागार के मामले में सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह की अदालत में पेश किया गया। जज ने उन्हें बताया कि आपलोग को ओपन जेल मंे रखने की व्यवस्था की गई है। इस पर लालू प्रसाद ने कहा सर, हम जन नेता हैं रांची जेल में ही लोगों से मिलने की व्यवस्था करा दीजिए। ओपन जेल में रहेंगे तो पूरे झारखंड के फोर्स को तैनात करना पड़ेगा, कहीं भाग गए तो नरसंहार मच जाएगा। 

डोरंडा और दुमका कोषागार से अवैध निकासी

गौरतलब है कि देवघर कोषागार से करीब 90 लाख रुपये की अवैध निकासी के मामले में सीबीआई कोर्ट ने लालू प्रसाद को साढ़े तीन साल की सजा सुना चुकी है। इसके बाद अब उन्हें रांची के डोरंडा कोषागार और दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में सजा सुनाया जाना है।  बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव सहित अन्य आरोपी सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश की अदालत में पेश किए गए। वीडियो कांफ्रेंसिंग (वीसी) के माध्यम से डोरंडा और दुमका कोषागार से अवैध निकासी मामले में आरोपियों को बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा से पेश किया गया। आरोपियों को सबसे पहले डोरंडा मामले में सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश प्रदीप कुमार की अदालत में पेश किया गया और उसमें सीबीआइ की ओर से गवाही दर्ज की गई। इसके बाद दुमका कोषागार से अवैध निकासी से संबंधित मामले में आरोपियों की पेशी सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत में हुई।

ये भी पढ़ें - बिहार में समीक्षा यात्रा पर निकले सीएम नीतीश कुमार पर बक्सर में पथराव, बचाने में कई सुरक्षाकम...


लालू और जज का एक दूसरे पर तंज 

यहां बता दें कि लालू प्रसाद पर तंज करते हुए जब जज ने कहा कि ‘‘आपलोग को ओपन जेल में रखने के लिए अनुशंसा किया हूं। वहां सभी सुविधा मौजूद है शौचालय से लेकर कमरा एवं टीवी तक है। जज ने कहा कि अक्टूबर में हम वहां गए थे, स्थिति खराब हो रही है। अब आपलोग वहां रहेंगे तो उसकी भी व्यवस्था सुधर जाएगी। फालतू में यहां अपराधियों के साथ रहेंगे। उन्होंने कहा कि एक अधिवक्ता ने पूछा कि कठोर सजा सुनाई गई है कि साधारण। हमने कहा कि कठोर में पैसा मिलता है, साधारण में नहीं। इनको पैसे की क्या जरूरत है। इनको भी रहना चाहिए। परिवार के साथ रहेंगे। खाना परिवार बनाएगी और आपलोग खाएंगे।’’ 

जज के इस कटाक्ष पर लालू बोले ‘‘ओपन जेल का नियम अलग है। हुजूर, जेल मैनुअल पढ़ लीजिए। 7 साल से कम सजा वालों के लिए नहीं है। वह तो नक्सलियों के लिए बना है या जो आधा सजा काट चुके हैं।  हमलोग जन नेता हैं, रांची जेल में मिलने की सुविधा दिला दीजिए। ओपन जेल में रखेंगे तो पूरे झारखंड के फोर्स को लगाना पड़ेगा। कम से कम 20 हजार फोर्स लगाना पड़ेगा। हमलोग भाग जाएंगे तो नरसंहार हो जाएगा। ऐसे में सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी आपकी होगी। 

Todays Beets: