Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

गोरखपुर महोत्सव में मालिनी अवस्थी और रविकिशन के कार्यक्रम में भीड़ हुई बेकाबू, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गोरखपुर महोत्सव में मालिनी अवस्थी और रविकिशन के कार्यक्रम में भीड़ हुई बेकाबू, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश सरकार के गोरखपुर महोत्सव में देर रात दर्शकों की भीड़ को काबू में लानग के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। बता दें कि शुक्रवार की रात लोक कलाकार मालिनी अवस्थी और फिल्म अभिनेता रविकिशन का कार्यक्रम था। दोनों के कार्यक्रम के दौरान दर्शक बेकाबू हो गए जिसे नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। बता दें कि आज शनिवार को इस महोत्सव का समापन होगा जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शिरकत करेंगे। 

कार्यक्रम के दौरान अभद्र टिप्पणी

गौरतलब है कि गोरखपुर महोत्सव में भोजपुरी गायक एवं अभिनेता रवि किशन ‘जिया हो बिहार के लाला’ गाने की प्रस्तुति दे रहे थे और मंच पर भोजपुरी गायिका मालिनी अवस्थी भी मौजूद थीं, उसी दौरान एक दर्शक ने अपना मोबाइल कैमरा ऑन किया और कलाकारों पर अभद्र टिप्पणी भी की। इसके बाद मामला बढ़ने पर पुलिस को इसमें दखल देना पड़ा। 

ये भी पढ़ें -चीफ जस्टिस विवाद पर राहुल गांधी के घर 'मंथन बैठक' शुरू, डी राजा जस्टिस चेमलेश्वर के घर मिलने पहुंचे

गोरखपुर महोत्सव का उद्देश्य


यहां बता दें कि यूपी सरकार का मकसद गोरखपुर महोत्सव के जरिए गोरखपुर और आसपास के जिलों में पर्यटन और सांस्कृतिक धरोहरों को बढ़ावा देना है। सरकार के अधिकारियों के अनुसार गोरखपुर महोत्सव हर साल मनाया जाता है लेकिन इस बार इसे बड़े पैमाने पर किया गया क्योंकि गोरखपुर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का शहर है।

गोरखपुर महोत्सव पर विपक्ष का वार

उत्तर प्रदेश सरकार के सांस्कृतिक विभाग में इसके लिए 35 लाख रुपए का बजट रखा है। विपक्ष ने योगी सरकार के इस महोत्सव पर सवाल उठाते हुए कहा कि पहले तो भाजपा सैफई महोत्सव की बुराई करती थी और अब खुद भी उसी राह चल रही है।

 

Todays Beets: