Wednesday, June 20, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

हुर्रियत के अलागगवादी नेताओं को दिल्ली में नहीं मिल रहे वकील, गिलानी समेत अन्य नेताओं से भी होगी पूछताछ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हुर्रियत के अलागगवादी नेताओं को दिल्ली में नहीं मिल रहे वकील, गिलानी समेत अन्य नेताओं से भी होगी पूछताछ

नई दिल्ली । पिछले कई दशकों से घाटी में हिंसा को बढ़ावा देने वाले अलगावादियों पर लगता है अब एनआईए ने अपना शिकंजा कस दिया है। टेरर फंडिंग के मामले को लेकर एनआईए की जांच के घेरे में आए हुर्रियत के अलागववादी नेताओं को शुक्रवार कोर्ट में पेश किया जाना है, लेकिन खबर है कि इन अलगाववादी नेताओं को दिल्ली में कोई वकील ही नहीं मिल रहा है, जो इनकी ओर से उनका पक्ष रख सके। खबर है कि शब्बीर शाह और सैयद अली शाह गिलानी लगातार दिल्ली मुंबई के ऐसे वकीलों के संपर्क में हैं, जो कश्मीर के अलगाववादी नेताओं के लिए काफी सहानुभूति रखते हैं। बता दें कि गृह राज्यमंत्री रिजिजू ने शुक्रवार को कहा कि ऑपरेशन हुर्रियत नाम के स्टिंग में दिखाए गए सभी हुर्रियत नेताओं से पूछताछ होगी, किसी को भी रियायत नहीं दी जाएगी। इसमें गिलानी समेत अन्य नेता भी शामिल होंगे, एनआईए अभी इन सभी को लेकर अपनी जांच कर रही है।

ये भी पढ़ें- भारतीय सेनाओं के अफसरों पर दुश्मन देशों की 'शातिर हसिनाओं' की नजर, हनी ट्रैप की रची है साजिश,...

खबर है कि हुर्रियत के अलगाववादी नेताओं ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एसआर गिलानी से भी संपर्क किया है। इन नेताओं ने गिलानी को काम सौंपा है कि वे उनके लिए वकील की खोज करें जो एनआईए की स्पेशल कोर्ट में उनकीपेशी के दौरान उनकी ओर से पक्ष को रख सकें। आपको बता दें कि गिलानी साल 2001 में संसद पर हुए हमले में आरोपी थे। गिलानी को साल 2010 में बरी किया गया था। फिलहाल वह एक एनजीओ के मुखिया हैं। इनका एनजीओ जेल में बंद राजनीतिक कैदियों को कानूनी मदद देने का काम करता है। 


ये भी पढ़ें- राजनीति में उतरने की तैयारी में आतंकी हाफिज सईद, पाक चुनाव आयोग से की राजनीतिक पार्टी को मान्...

सूत्रों के अनुसार, इस बार इन अलागाववादी नेताओं के खिलाफ खासे सबूत एनआईए के पास ऐसे में इनपर शिकंजा कस गया है। अपने बचाव के लिए लिए ये दिल्ली- मुंबई से अपने लिए वकीलों की जुगत लगा रहे हैं लेकिन कोई भी इनकी ओर से कोर्ट में केस लड़ने को तैयार नहीं है। खबर है कि इन नेताओं ने मुंबई के भी एक प्रतिष्ठित वकील से संपर्क किया है। बताया जा रहा है कि उक्त वकील काफी समय से कश्मीर समस्या पर लिखते आए हैं और कुछ हद तक अलगाववादियों का समर्थन करते भी दिखते हैं। 

ये भी पढ़ें- जम्मू—कश्मीर के अनंतनाग में मुठभेड़ में हिज्बुल आतंकी ढेर, क्रॉस फायरिंग में आम नागरिक की मौत

Todays Beets: