Tuesday, August 22, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

हुर्रियत के अलागगवादी नेताओं को दिल्ली में नहीं मिल रहे वकील, गिलानी समेत अन्य नेताओं से भी होगी पूछताछ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हुर्रियत के अलागगवादी नेताओं को दिल्ली में नहीं मिल रहे वकील, गिलानी समेत अन्य नेताओं से भी होगी पूछताछ

नई दिल्ली । पिछले कई दशकों से घाटी में हिंसा को बढ़ावा देने वाले अलगावादियों पर लगता है अब एनआईए ने अपना शिकंजा कस दिया है। टेरर फंडिंग के मामले को लेकर एनआईए की जांच के घेरे में आए हुर्रियत के अलागववादी नेताओं को शुक्रवार कोर्ट में पेश किया जाना है, लेकिन खबर है कि इन अलगाववादी नेताओं को दिल्ली में कोई वकील ही नहीं मिल रहा है, जो इनकी ओर से उनका पक्ष रख सके। खबर है कि शब्बीर शाह और सैयद अली शाह गिलानी लगातार दिल्ली मुंबई के ऐसे वकीलों के संपर्क में हैं, जो कश्मीर के अलगाववादी नेताओं के लिए काफी सहानुभूति रखते हैं। बता दें कि गृह राज्यमंत्री रिजिजू ने शुक्रवार को कहा कि ऑपरेशन हुर्रियत नाम के स्टिंग में दिखाए गए सभी हुर्रियत नेताओं से पूछताछ होगी, किसी को भी रियायत नहीं दी जाएगी। इसमें गिलानी समेत अन्य नेता भी शामिल होंगे, एनआईए अभी इन सभी को लेकर अपनी जांच कर रही है।

ये भी पढ़ें- भारतीय सेनाओं के अफसरों पर दुश्मन देशों की 'शातिर हसिनाओं' की नजर, हनी ट्रैप की रची है साजिश,...

खबर है कि हुर्रियत के अलगाववादी नेताओं ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एसआर गिलानी से भी संपर्क किया है। इन नेताओं ने गिलानी को काम सौंपा है कि वे उनके लिए वकील की खोज करें जो एनआईए की स्पेशल कोर्ट में उनकीपेशी के दौरान उनकी ओर से पक्ष को रख सकें। आपको बता दें कि गिलानी साल 2001 में संसद पर हुए हमले में आरोपी थे। गिलानी को साल 2010 में बरी किया गया था। फिलहाल वह एक एनजीओ के मुखिया हैं। इनका एनजीओ जेल में बंद राजनीतिक कैदियों को कानूनी मदद देने का काम करता है। 


ये भी पढ़ें- राजनीति में उतरने की तैयारी में आतंकी हाफिज सईद, पाक चुनाव आयोग से की राजनीतिक पार्टी को मान्...

सूत्रों के अनुसार, इस बार इन अलागाववादी नेताओं के खिलाफ खासे सबूत एनआईए के पास ऐसे में इनपर शिकंजा कस गया है। अपने बचाव के लिए लिए ये दिल्ली- मुंबई से अपने लिए वकीलों की जुगत लगा रहे हैं लेकिन कोई भी इनकी ओर से कोर्ट में केस लड़ने को तैयार नहीं है। खबर है कि इन नेताओं ने मुंबई के भी एक प्रतिष्ठित वकील से संपर्क किया है। बताया जा रहा है कि उक्त वकील काफी समय से कश्मीर समस्या पर लिखते आए हैं और कुछ हद तक अलगाववादियों का समर्थन करते भी दिखते हैं। 

ये भी पढ़ें- जम्मू—कश्मीर के अनंतनाग में मुठभेड़ में हिज्बुल आतंकी ढेर, क्रॉस फायरिंग में आम नागरिक की मौत

Todays Beets: