Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

मराठा संगठनों का आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान, सरकार ने किए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मराठा संगठनों का आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान, सरकार ने किए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

मुंबई। महाराष्ट्र में सरकारी नौकरियों में आरक्षण देने की मांग पर गुरुवार को मराठा क्रांति मोर्चा ने महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है। बंद के आह्वान को देखते हुए पूरे राज्य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पिछले महीने मराठा संगठनों के विरोध प्रदर्शन के दौरान भारी हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई थी। प्रदेश सरकार ने बंद के मद्देनजर संवेदनशील स्थानों पर त्वरित कार्यबल की 6 कंपनियां और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षाबल तथा राज्य रिजर्व पुलिस बल की एक-एक कंपनी तैनात की है। 

गौरतलब है कि कुछ जगहों पर पुलिस की मदद के लिए होमगार्ड के जवान भी तैनात किए जा रहे हैं। प्रदर्शनकारियों के साथ ही पुलिस सोशल मीडिया पर भी कड़ी नजर रख रही है। प्रशासन की ओर से जरूरी सेवाओं को प्रभावित न होने देने का भी पूरा इंतजाम किया गया है। 

ये भी पढ़ें - मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांडः आरोपी द्वारा संबंध को स्वीकार करने के बाद मंजू वर्मा ने दिया इस्तीफा


यहां बता दें कि मराठा आंदोलन के दौरान नौजवानों द्वारा की जा रही आत्महत्या पर बाॅम्बे हाईकोर्ट ने मराठा समुदायों से धैर्य रखने की अपील की है। कोर्ट ने लोगों से कहा है कि मामला विचाराधीन है और राज्य सरकार से इस मामले में उठाए गए सभी कदमों की रिपोर्ट 10 सितंबर तक पेश करने का निर्देश दिया है।

गौर करने वाली बात है कि हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति आरवी मोरे एवं न्यायमूर्ति अनूजा प्रभुदेसाई की खंडपीठ ने कहा कि मराठा आरक्षण को लेकर शुरू आंदोलन की संवेदनशीलता को देखते हुए राज्य पिछड़ा आयोग जल्द से जल्द मराठा आरक्षण से जुड़ी अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपे। खंडपीठ ने इस बात की उम्मीद जताई कि आयोग 2 महीने के अंदर अपना काम पूरा कर लेगा। 

Todays Beets: