Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

मराठा संगठनों का आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान, सरकार ने किए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मराठा संगठनों का आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान, सरकार ने किए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

मुंबई। महाराष्ट्र में सरकारी नौकरियों में आरक्षण देने की मांग पर गुरुवार को मराठा क्रांति मोर्चा ने महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है। बंद के आह्वान को देखते हुए पूरे राज्य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पिछले महीने मराठा संगठनों के विरोध प्रदर्शन के दौरान भारी हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई थी। प्रदेश सरकार ने बंद के मद्देनजर संवेदनशील स्थानों पर त्वरित कार्यबल की 6 कंपनियां और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षाबल तथा राज्य रिजर्व पुलिस बल की एक-एक कंपनी तैनात की है। 

गौरतलब है कि कुछ जगहों पर पुलिस की मदद के लिए होमगार्ड के जवान भी तैनात किए जा रहे हैं। प्रदर्शनकारियों के साथ ही पुलिस सोशल मीडिया पर भी कड़ी नजर रख रही है। प्रशासन की ओर से जरूरी सेवाओं को प्रभावित न होने देने का भी पूरा इंतजाम किया गया है। 

ये भी पढ़ें - मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांडः आरोपी द्वारा संबंध को स्वीकार करने के बाद मंजू वर्मा ने दिया इस्तीफा


यहां बता दें कि मराठा आंदोलन के दौरान नौजवानों द्वारा की जा रही आत्महत्या पर बाॅम्बे हाईकोर्ट ने मराठा समुदायों से धैर्य रखने की अपील की है। कोर्ट ने लोगों से कहा है कि मामला विचाराधीन है और राज्य सरकार से इस मामले में उठाए गए सभी कदमों की रिपोर्ट 10 सितंबर तक पेश करने का निर्देश दिया है।

गौर करने वाली बात है कि हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति आरवी मोरे एवं न्यायमूर्ति अनूजा प्रभुदेसाई की खंडपीठ ने कहा कि मराठा आरक्षण को लेकर शुरू आंदोलन की संवेदनशीलता को देखते हुए राज्य पिछड़ा आयोग जल्द से जल्द मराठा आरक्षण से जुड़ी अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपे। खंडपीठ ने इस बात की उम्मीद जताई कि आयोग 2 महीने के अंदर अपना काम पूरा कर लेगा। 

Todays Beets: