Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

जैश-ए-मोहम्मद का सरगना पड़ा बिस्तर पर, पाकिस्तान के मिलिट्री अस्पताल में हो रहा इलाज!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जैश-ए-मोहम्मद का सरगना पड़ा बिस्तर पर, पाकिस्तान के मिलिट्री अस्पताल में हो रहा इलाज!

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के साथ ही देश के कई हिस्सों में आतंकी वारदातों को अंजाम देने वाले संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना अजहर मसूद के गंभीर तौर पर बीमार होने की खबर है। खबरों के अनुसार मसूद अजहर रीढ़ की हड्डी और गुर्दे की बीमारी से जूझ रहा है और पाकिस्तानी से मिली खुफिया जानकारी के अनुसार उसका इलाज रावलपिंडी के कंबाइंड मिलिटरी अस्पताल में किया जा रहा है। एक जानकारी के अनुसार इन बीमारियों से पूरी तरह से ठीक होने में करीब डेढ़ साल का समय लग सकता है। ऐसे में डाॅक्टरों ने उसे बिस्तर पर ही रहने की सलाह दी है।

गौरतलब है कि आतंकी वारदातों के लिहाज से यह भारत के लिए एक अच्छी खबर मानी जा सकती है। हालांकि जैश-ए-मोहम्मद के सरगना ने अपने कामों का बंटवारा अपने छोटे भाइयों के बीच कर दिया है। गौर करने वाली बात है कि संयुक्त राष्ट्र ने भी मसूद को एक वैश्विक आतंकी घोषित कर चुका है। बता दें कि भारतीय राजनयिकों ने उसके बीमार होने और अस्पताल में भर्ती होने की खबरों की पुष्टि नहीं कर रहे हैं। 


ये भी पढ़ें - वाराणसी में PM मोदी को जितवाने वालों को गुजरात में निशाना बनाकर पीटा जा रहा है -  मायावती

गौर करने वाली बात है कि जानकारों का मानना है कि अजहर को वैश्विक आतंकी वाली बात पर चीन हमेशा से ही रोड़े अटकाता रहा है। अब भारत को इसके लिए चीन से रियायत की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि आतंकी तो खुद कई बीमारियों से पीड़ित हो चुका है। बता दें कि भारत की ओर से साल 2001 में संसद हमले, 2005 में अयोध्या में और 2016 में पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले के लिए अजहर मसूद को जिम्मेदार ठहराया है।

Todays Beets: