Monday, November 19, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

कांग्रेस-बसपा में बढ़ने लगी दूरी!, कहा-महंगाई के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस-बसपा में बढ़ने लगी दूरी!, कहा-महंगाई के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे 

नई दिल्ली। बढ़ती महंगाई और पेट्रोल -डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों पर बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने केन्द्र सरकार के साथ ही कांग्रेस पर निशाना साधा है। मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि महंगाई के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस दोनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि मौजूदा सरकार अपने उद्योगपति दोस्तों को नाराज नहीं करना चाहती है और यही काम सरकार में रहते हुए कांग्रेस भी कर रही थी। यहां गौर करने वाली बात है कि लोकसभा चुनाव से पहले मायावती के द्वारा दिए गए इस बयान ने राजनीतिक गलियारों में एक बार फिर से हलचल पैदा कर दी है।

गौरतलब है कि सोमवार को कांग्रेस के द्वारा बुलाए गए भारत बंद में 21 दलों का समर्थन होने का दावा किया गया था लेकिन बहुजन समाजवादी पार्टी का कोई भी नेता इस बंद में शामिल नहीं हुआ। बता दें कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कई विपक्षी दलों के नेताओं ने सोमवार को पैदल मार्च किया था। इस बंद के दौरान देश के कई हिस्सों से हिंसा और तोड़फोड़ की खबरें आई थी।

ये भी पढ़ें - पीएनबी को करोड़ों रुपये का चूना लगाने वाले मेहुल चोकसी ने आत्मसमर्पण से किया इंकार, सीबीआई और ...


यहां बता दें कि बसपा सुप्रीमो ने प्रेस कांफ्रेंस कर भाजपा और कांग्रेस दोनों पर ही आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि महंगाई के मुद्दे पर दोनों की पार्टियों की एक ही नीति है। मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम कर अपने उद्योगपति दोस्तों को नाराज नहीं करना चाहती है। उन्होंने कहा कि फिलहाल इसका विरोध कर रही कांग्रेस भी सरकार में रहने के दौरान यही चीजें कर रही थी। मायावती ने कहा कि एनडीए सरकार का कहना है कि तेल की बढ़ती कीमतों पर वह कुछ भी नहीं कर सकती है यह बिल्कुल गलत है, अगर सरकार चाहे तो इस पर काबू पाया जा सकता है। 

 

गौर करने वाली बात है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद एक मंच पर मायावती और सोनिया गांधी के बीच कम होती दूरियों को कांग्रेस के लिए अच्छा माना जा रहा था लेकिन मायावती के इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में पार्टी से उसकी तल्खी सामने आ गई है। मायावती ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसने देश की जनता को लाचार कर दिया है।  

Todays Beets: