Friday, November 17, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

पान की पीक धरती पर थूकने वालों को वंदेमातरम करने का अधिकार नहीं, सफाई कर्मियों का पहला हक - पीएम मोदी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पान की पीक धरती पर थूकने वालों को वंदेमातरम करने का अधिकार नहीं, सफाई कर्मियों का पहला हक - पीएम मोदी

नई दिल्ली ।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज भले ही लोग 9/11 तारीख को याद रखते हैं लेकिन आज से सवा सौ साल पहले भी एक और 9/11 हुआ था। इस तारीख पर कुछ और नहीं बल्कि विश्व विजय दिवस था। इस तारीख को स्वामी विवेकानंद ने शिकागो सम्मेलन में भाषण देकर पश्चिम को भारत की आध्यात्मिकता के दर्शन कराए थे। उन्होंने कहा कि उन्होंने पूरी दुनिया को नया रास्ता दिखाया था। विवेकानंद पूरी उम्र हर बुराई के खिलाफ आवाज उठाते रहते थे। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि गुलामी के दौर में भी विवेकानंद आत्मविश्वास से भरपूर थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज हम पान खाकर धरती पर थूक देते हैं और गंदगी फैलाते हैं, ऐसे लोगों को वंदे मातरम कहने का हक नहीं है। 

स्वामी विवेकानंद के शिकागो सम्मेलन की 125वीं वर्षगांठ के मौके पर विज्ञान भवन में आयोजित एक समारोह में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद के शिकागो सम्मेलन में भाषण की पूरी दुनिया में चर्चा हुई थी। उसके बाद दुनिया ने भारत की आध्यात्मिकता के दर्शन किए। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने जनसेवा को प्रभु सेवा करार दिया था। वह सत्य की खोज के लिए निकले थे। अगर सवा सौ साल बाद भी उनके विचार अपना महत्व रखते हों तो 

इस दौरान पीएम ने कहा कि आज जो लोग नारियों का सम्मान करते हैं, मैं उन लोगों को सौ बार प्रणाम करता हूं, लेकिन ऐसे भी कई लोग हैं जो उनके अंदर इंसान नहीं देखते। इस दौरान पीएम ने कहा कि आप 50 बार सोच लें कि क्या हमें वंदे मातरम बोलने का अधिकार है, क्योंकि हम पान खाकर उस धरती पर थूक दें और फिर वंदे मातरम बोले। हम कूड़ा सड़कों पर उस धरती माता पर फेंक दें और फिर वंदे मातरम बोले, यह ठीक नहीं है। अगर इस देश में किसी को वंदे मातरम बोलने का हक है तो सफाई का काम करने वालों को। हम सफाई करें या न करें लेकिन हमें गंदगी करने का हक नहीं है। 


उन्होंने कहा कि गंगा में स्नान करने वालों की सोच है कि उनके सारे पाप धुल जाएंगे, लेकिन अपने पाप धोने वालों से पूछना होगा कि क्या हम गंगा में गंदगी नहीं फैलाते। लोग सोचते हैं कि हम इसलिए स्वस्थ हैं कि आज बड़े बड़े अस्पताल हमारे आस-पास हैं, आज बड़े-बड़े डाक्टर हमारा इलाज कर रहे हैं, लेकिन मैं बता दूं कि आज हम स्वस्थ इसलिए हैं क्योंकि हमारे कुछ लोग गंदगी साफ करने का काम करते हैं। 

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत को अपनी युवा शक्ति पर गर्व है। आज भारत के इन युवाओं को रोजगार लेने वाला नहीं बल्कि रोजगार देने वाला बनना होगा, इस दौरान किसी प्रकार की नाकाम से न डरें। बिना नाकामी के किसी भी शख्स को कामयाबी नहीं मिली है। ऐसे में अपने लक्ष्य को निर्धारित करके जुट जाइये। असफलता ही सफलता का रास्ता बनाती हैं। ऐसे कई युवा हैं जिन्होंने इन बातों को साबित भी कर दिया है। इसलिए आज पूरा विश्व इस सदी को एशिया की सदी करार देता हैं। हमारे देश में तो भीख मांगने वाला भी तत्व ज्ञान से भरा हुआ है। 

 

Todays Beets: