Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

केंद्र सरकार और रक्षा मंत्रालय के सामने नई बड़ी मुश्किल, 100 से ज्यादा आर्मी अफसरों ने सुप्रीम कोर्ट में दर्ज की याचिका 

अंग्वाल संवाददाता
केंद्र सरकार और रक्षा मंत्रालय के सामने नई बड़ी मुश्किल, 100 से ज्यादा आर्मी अफसरों ने सुप्रीम कोर्ट में दर्ज की याचिका 

नई दिल्ली। देश की सेना के 100 से अधिक आर्मी अफसरों ने पदोन्नति को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। शिकायत दर्ज करने वाले अफसरों में अधिकांश लेफ्टिनेंट कर्नल और मेजर पद के अधिकारी हैं। इन अफसरों ने पदोन्नति में उनके साथ भेदभाव व अन्याय किए जाने के आरोप लगाए हैं। बता दें कि हाल ही रक्षा मंत्रालय का कार्यभार निर्मला सीतारणम को सौंपा गया है। ऐसे में पदभार ग्राहण करने के साथ ही उनके सामने यह मुसीबत आ खड़ी हुई है। 

यह भी पढ़े- पान की पीक धरती पर थूकने वालों को वंदेमातरम करने का अधिकार नहीं, सफाई कर्मियों का पहला हक - प...

याचिका में अफसरों का कहना है कि सेना और केंद्र सरकार के इस कदम से याचिकाकर्ताओं और अन्य अफसरों के साथ बड़ा अन्याय हुआ है। याचिका में कहा गया है कि इससे सेना के जवानों का मनोबल गिरता है। इसका सीधा असर देश की सुरक्षा पर पड़ता है। याचिकाकर्ताओं ने अपील कहा है कि अगर सरकार उन्हें समान पदोन्नति नहीं देती है तो वो इन अफसरों को सैन्य मोर्चों पर तैनात भी न करें। 


यह भी पढ़े- तीन तलाक पर पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा बयान,अदालत के फैसले का सम्मान इसका मतलब यह नहीं कि हम शरि...

अधिकारियों के इस कदम से रक्षा मंत्रालय और सरकार के सामने चुनौतियां आ खड़ी हुई है। आधिकारियों ने याचिका में अपील की है कि अगर उनके साथ ऐसे ही भेदभाव हुआ और उन्हें उनका हक नहीं मिला, तो उन्हें ऑपरेशनल एरिया और युद्ध क्षेत्र में तैनात न किया जाए। सुप्रीम कोर्ट में यह याचिका लेफ्टिनेंट कर्नल पी के चौधरी की अगुवाई में दायर की गई। इस याचिका में कहा गया है कि सर्विसेज कोर के अफसरों को ऑपरेशनल एरिया में तैनात किया गया है।

Todays Beets: