Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

केंद्र सरकार और रक्षा मंत्रालय के सामने नई बड़ी मुश्किल, 100 से ज्यादा आर्मी अफसरों ने सुप्रीम कोर्ट में दर्ज की याचिका 

अंग्वाल संवाददाता
केंद्र सरकार और रक्षा मंत्रालय के सामने नई बड़ी मुश्किल, 100 से ज्यादा आर्मी अफसरों ने सुप्रीम कोर्ट में दर्ज की याचिका 

नई दिल्ली। देश की सेना के 100 से अधिक आर्मी अफसरों ने पदोन्नति को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। शिकायत दर्ज करने वाले अफसरों में अधिकांश लेफ्टिनेंट कर्नल और मेजर पद के अधिकारी हैं। इन अफसरों ने पदोन्नति में उनके साथ भेदभाव व अन्याय किए जाने के आरोप लगाए हैं। बता दें कि हाल ही रक्षा मंत्रालय का कार्यभार निर्मला सीतारणम को सौंपा गया है। ऐसे में पदभार ग्राहण करने के साथ ही उनके सामने यह मुसीबत आ खड़ी हुई है। 

यह भी पढ़े- पान की पीक धरती पर थूकने वालों को वंदेमातरम करने का अधिकार नहीं, सफाई कर्मियों का पहला हक - प...

याचिका में अफसरों का कहना है कि सेना और केंद्र सरकार के इस कदम से याचिकाकर्ताओं और अन्य अफसरों के साथ बड़ा अन्याय हुआ है। याचिका में कहा गया है कि इससे सेना के जवानों का मनोबल गिरता है। इसका सीधा असर देश की सुरक्षा पर पड़ता है। याचिकाकर्ताओं ने अपील कहा है कि अगर सरकार उन्हें समान पदोन्नति नहीं देती है तो वो इन अफसरों को सैन्य मोर्चों पर तैनात भी न करें। 


यह भी पढ़े- तीन तलाक पर पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा बयान,अदालत के फैसले का सम्मान इसका मतलब यह नहीं कि हम शरि...

अधिकारियों के इस कदम से रक्षा मंत्रालय और सरकार के सामने चुनौतियां आ खड़ी हुई है। आधिकारियों ने याचिका में अपील की है कि अगर उनके साथ ऐसे ही भेदभाव हुआ और उन्हें उनका हक नहीं मिला, तो उन्हें ऑपरेशनल एरिया और युद्ध क्षेत्र में तैनात न किया जाए। सुप्रीम कोर्ट में यह याचिका लेफ्टिनेंट कर्नल पी के चौधरी की अगुवाई में दायर की गई। इस याचिका में कहा गया है कि सर्विसेज कोर के अफसरों को ऑपरेशनल एरिया में तैनात किया गया है।

Todays Beets: