Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

अब बोलचाल और लिखित में नहीं कर सकेंगे ‘दलित’ शब्द का इस्तेमाल, केन्द्र ने जारी किए दिशा निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब बोलचाल और लिखित में नहीं कर सकेंगे ‘दलित’ शब्द का इस्तेमाल, केन्द्र ने जारी किए दिशा निर्देश

नई दिल्ली। अगर अभी तक आप अपनी बोलचाल और लिखने के दौरान जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल कर रहे थे अब सावधान हो जाएं। केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों को लिखित आदेश दिए हैं कि अब सरकारी स्तर पर या कहीं भी दलित शब्द का प्रयोग वर्जित होगा। इतना ही नहीं सरकारी दस्तावेजों और पत्रावली में भी दलित शब्द का प्रयोग करने पर रोक लगा दी गई है। बता दें कि मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने 21 जनवरी को दिए आदेश में  सरकारी दस्तावेजों और अन्य जगहों पर दलित शब्द के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाई थी।

ये भी पढ़ें - अमेरिका ने सीरिया के रासायनिक ठिकानों पर शुरू की बमबारी, रूस ने दी अंजाम भुगतने की चेतावनी

गौरतलब है कि अब केन्द्र ने मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों को दलित शब्द का प्रयोग रोकने के लिखित निर्देश दिए हैं। नए आदेश के अनुसार अब किसी भी अनुसूचित जाति के व्यक्ति के आगे उनकी जाति का नाम लिखा जाना अनिवार्य होगा। बता दें कि इससे पहले 10 फरवरी 1982 में नोटिफिकेशन जारी कर ‘हरिजन’ शब्द पर भी रोक लगाई गई थी। अब हरिजन बोलने पर कड़ी सजा का प्रावधान है। हालांकि अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि दलित शब्द का प्रयोग करते हुए पाए जाने पर कितनी सजा का प्रावधान रखा गया है। 


 

आपको बता दें कि सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने प्रमुख सचिव को लिखे पत्र में स्पष्ट किया है कि दलित शब्द का उल्लेख संविधान में कहीं नहीं मिलता है। इससे पहले 1990 में इसी तरह का आदेश जारी हुआ था जिसमें सरकारी दस्तावेजों में अनुसूचित जाति के लोगों के लिए सिर्फ उनकी जाति लिखने के निर्देश दिए गए थे। 

Todays Beets: