Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

अब बोलचाल और लिखित में नहीं कर सकेंगे ‘दलित’ शब्द का इस्तेमाल, केन्द्र ने जारी किए दिशा निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब बोलचाल और लिखित में नहीं कर सकेंगे ‘दलित’ शब्द का इस्तेमाल, केन्द्र ने जारी किए दिशा निर्देश

नई दिल्ली। अगर अभी तक आप अपनी बोलचाल और लिखने के दौरान जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल कर रहे थे अब सावधान हो जाएं। केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों को लिखित आदेश दिए हैं कि अब सरकारी स्तर पर या कहीं भी दलित शब्द का प्रयोग वर्जित होगा। इतना ही नहीं सरकारी दस्तावेजों और पत्रावली में भी दलित शब्द का प्रयोग करने पर रोक लगा दी गई है। बता दें कि मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने 21 जनवरी को दिए आदेश में  सरकारी दस्तावेजों और अन्य जगहों पर दलित शब्द के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाई थी।

ये भी पढ़ें - अमेरिका ने सीरिया के रासायनिक ठिकानों पर शुरू की बमबारी, रूस ने दी अंजाम भुगतने की चेतावनी

गौरतलब है कि अब केन्द्र ने मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों को दलित शब्द का प्रयोग रोकने के लिखित निर्देश दिए हैं। नए आदेश के अनुसार अब किसी भी अनुसूचित जाति के व्यक्ति के आगे उनकी जाति का नाम लिखा जाना अनिवार्य होगा। बता दें कि इससे पहले 10 फरवरी 1982 में नोटिफिकेशन जारी कर ‘हरिजन’ शब्द पर भी रोक लगाई गई थी। अब हरिजन बोलने पर कड़ी सजा का प्रावधान है। हालांकि अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि दलित शब्द का प्रयोग करते हुए पाए जाने पर कितनी सजा का प्रावधान रखा गया है। 


 

आपको बता दें कि सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने प्रमुख सचिव को लिखे पत्र में स्पष्ट किया है कि दलित शब्द का उल्लेख संविधान में कहीं नहीं मिलता है। इससे पहले 1990 में इसी तरह का आदेश जारी हुआ था जिसमें सरकारी दस्तावेजों में अनुसूचित जाति के लोगों के लिए सिर्फ उनकी जाति लिखने के निर्देश दिए गए थे। 

Todays Beets: