Friday, August 17, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर एनजीटी ने सरकार को लगाई लताड़, 48 घंटे के अंदर मांगी रिपोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर एनजीटी ने सरकार को लगाई लताड़, 48 घंटे के अंदर मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) ने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण से निपटने के लिए कोई प्रभावी योजना नहीं देने पर सरकार को एक बार फिर से फटकार लगाई है। एनजीटी ने प्रदूषण और हवा की गुणवत्ता खराब होने के बावजूद भारत-श्रीलंका क्रिकेट मैच कराने को लेकर अधिकारियों की भी कड़ी आलोचना की है। एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार ने विशेष आदेश के बावजूद रिपोर्ट दाखिल करने में आप सरकार के नाकाम रहने पर ऐतराज जताया। 

48 घंटे के अंदर मांगी रिपोर्ट 

गौरतलब है कि एनजीटी की फटकार के बाद अपने बचाव में दिल्ली सरकार ने कहा कि उसे प्रदूषण से निपटने के लिए योजना बनाने के लिए कुछ वक्त और चाहिए, क्योंकि मुख्य सचिव और पर्यावरण सचिव का हाल ही में तबादला हुआ है। बता दें कि सरकार की दलील के बाद एनजीटी ने सरकार को अगले 48 घंटों के अंदर रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है।


ये भी पढ़ें - आतंकी हाफिज लड़ेगा पाकिस्तान का आम चुनाव, परवेज मुशर्रफ गठबंधन बनाने को तैयार 

सरकार को लगाई लताड़

आपको बता दें कि प्रदूषण पर सख्त रुख अपनाते हुए एनजीटी ने दिल्ली सरकार को पूछा, आपकी कार्रवाई योजना कहां है? आपने इसे क्यों नहीं सौंपा, अगर आप हर किसी को बदलते रहेंगे, तो हम क्या कर सकते हैं, यदि लोग आपके साथ बने नहीं रहना चाहते हैं तो यह हमारी समस्या नहीं है। एनजीटी ने कहा कि आप बैठकें करते रहे हैं लेकिन हमें यह बताएं कि प्रदूषण से निपटने के लिए पिछले 4 दिनों में आपने क्या कदम उठाए हैं? एनजीटी की पीठ ने कहा कि पहले से खबर होने के बाद भी इससे निपटने के लिए कोई उपाय नहीं किए गए। एनजीटी ने इस हालत में भी आॅड-ईवन नहीं लागू करने पर सरकार को लताड़ा है। एनजीटी ने सरकार से यह भी पूछा कि शहर की सड़कों पर 4,000 बसें उतारने के आश्वासन का क्या हुआ?  बता दें कि इससे पहले एनजीटी ने दिल्ली के साथ हरियाणा, पंजाब और उत्तरप्रदेश सरकार को भी फटकार लगाई थी। 

Todays Beets: