Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

बढ़ते प्रदूषण के स्तर पर एनजीटी सख्त, 23 राज्यों को 2 महीने के अंदर कार्ययोजना तैयार करने का आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बढ़ते प्रदूषण के स्तर पर एनजीटी सख्त, 23 राज्यों को 2 महीने के अंदर कार्ययोजना तैयार करने का आदेश

नई दिल्ली। देश में बढ़ रहे प्रदूषण के स्तर पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) सख्त हो गया है। एनजीटी ने दिल्ली और चंडीगढ़ समेत 23 राज्यों को 2 महीने के अंदर वायु प्रदूषण से निपटने की कार्ययोजना तैयार करने का आदेश दिया है। एनजीटी ने कहा कि देश के करीब 102 शहरों में हवा की गुणवत्ता, राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मानकों के अनुरूप नहीं है। न्यायाधिकरण ने वायु गुणवत्ता निगरानी समिति (एक्यूएमसी) गठित की है। इसमें पर्यावरण, परिवहन, उद्योग, शहरी विकास, कृषि विभाग के निदेशक और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों के सदस्य-सचिव शामिल हैं।

गौरतलब है कि एनजीटी ने स्पष्ट कहा है कि प्रदूषण से निपटने के लिए कार्ययोजना तैयार करने में नाकाम रहने पर उस राज्य के मुख्य सचिवों के साथ केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासक जिम्मेदार होंगे। बता दें कि कुछ दिनों पहले ही प्रदूषण के कारण लोगों को हो रही परेशानियों पर एनजीटी ने दिल्ली और पड़ोसी राज्यों को सख्त निर्देश दिए थे। 

ये भी पढ़ें - कांग्रेस नेताओं को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, कमलनाथ और सचिन पायलट की अर्जी की खारिज 


आपको बता दें कि एनजीटी ने जिन राज्यों को कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं उनमें महाराष्ट्र (17 शहर), उत्तर प्रदेश (15), पंजाब (9), हिमाचल प्रदेश (7), ओडिशा और मध्य प्रदेश (6-6 शहर), असम, आंध्र प्रदेश और राजस्थान (5-5 शहर)य कर्नाटक (4), बिहार, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना (3-3 शहर), गुजरात, जम्मू-कश्मीर, नगालैंड और उत्तराखंड (प्रत्येक में 2 शहर) और झारखंड, दिल्ली, चंडीगढ़, मेघालय, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल (प्रत्येक में) शामिल हैं।

 

Todays Beets: