Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

यूपी बोर्ड के मूल्यांकन में दिख रहा परीक्षा में सख्ती का असर, काॅपियों में से निकल रहे 500 और 100 के नोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी बोर्ड के मूल्यांकन में दिख रहा परीक्षा में सख्ती का असर, काॅपियों में से निकल रहे 500 और 100 के नोट

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश सरकार द्वारा हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा को नकलविहीन बनाने का असर मूल्यांकन में भी दिखने लगा है। पेपर हल नहीं करने वाले छात्रों ने अपनी काॅपियों में नोट भी नत्थी कर दिए थे। सीएवी इंटर कॉलेज में पिछले दो दिनों के मूल्यांकन के दौरान इंटर रसायन विज्ञान की कॉपी से 500-500 के नोट निकले हैं। काॅपी जांच करने वाले कुछ शिक्षकों ने बिना किसी को इसकी जानकारी दिए नोटों को अपने पास रख भी लिए। बता दें कि यूपी बोर्ड ने इस बार की परीक्षा में इतनी सख्ती कर दी है कि हजारों छात्रों ने परीक्षा ही छोड़ दी है। शिक्षकों का कहना है कि छात्र कापियों के अंदर नोट इसलिए नत्थी कर देते हैं ताकि जांच करने वालों को थोड़ा तरस आ जाए और वे उसे कुछ नंबर दे दें। वहीं मूल्यांकन करने वाले शिक्षकों ने इस बात की भी शिकायत की है काॅपी जांचने वालों की ड्यूटी लगाने में गड़बड़ी की गई है। यहां कमरे में उन्हें ठूंसकर बैठा दिया गया है। 

ये भी पढ़ें - सपा-बसपा गठबंधन को भेदने के लिए भाजपा ने बनाया 'मास्टर प्लान', मिशन-2019 से पहले करेंगे 'ढेर'


गौरतलब है कि शिक्षकों का आरोप है कि जिस कमरे में 80 छात्र नहीं बैठ सकते हैं वहां करीब 100 से ज्यादा शिक्षकों को बैठा दिया गया है। आर्थिक रूप से कमजोर कुछ स्कूलों ने तो अपने यहां तालाबंदी करना ही मुनासिब समझा है। अब देखना यह है कि मूल्यांकन करने वाले शिक्षक छात्रों के भविष्य के साथ कैसा व्यवहार करते हैं। 

Todays Beets: