Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

प्रधानमंत्री आवास योजना में नहीं उठा पाएंगे अवैध रूप से लाभ, कड़ी सुरक्षा की तैयारी 

अंग्वाल संवाददाता
प्रधानमंत्री आवास योजना में नहीं उठा पाएंगे अवैध रूप से लाभ, कड़ी सुरक्षा की तैयारी 

नई दिल्ली। अब लोग केंद्र सरकार की आवासीय योजनाओं का लाभ एक बार ही उठा सकेंगे। कोई व्यक्ति इसका दो बार लाभ हासिल न कर पाए इसके लिए केंद्रीय स्तर पर एक तंत्र बनाया जाएगा। सरकार इस धांधली को रोकने के लिए सभी राज्यों का केंद्रीय डाटा तैयार कराने जा रही है। सरकार का मानना है कि इससे लाभार्थियों को अलग-अलग जगहों पर एक से ज्यादा आवासीय योजना का लाभ उठाने से रोका जा सकेगा। केंद्र सरकार द्वारा तैयार किए गए प्रस्ताव में कहा गया है कि एक मास्टर केंद्रीय डाटा तैयार होना चाहिए, जिसमें सभी राज्यों में आवास योजना व केंद्रीय आवास योजना के लाभार्थियों का ब्योरा हो। प्रस्ताव के मुताबिक, इसका उद्देश्य एक ही व्यक्ति को एक से ज्यादा सरकारी योजना का लाभ लेने से रोकना है।  

यह भी पढ़े- आतंकवाद पर जापानी पीएम ने पाकिस्तान को लताड़ा, कहा- भारत में आतंकी हमलों के आरोपियों को मिले सजा


सेंध लगाने की आंशका 

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री आवास योजना को शहरी व ग्रामीण स्तर पर पारदर्शी बनाने के लिए सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। ग्रामीण आवास योजना में लाभार्थी को चुनने, आवास की मंजूरी, पैसा जारी करने तक की प्रक्रिया में कड़ी निगरानी की व्यवस्था है। वाबजूद इसके सभी राज्यों का केंद्रीय डाटा नहीं होने से एक व्यक्ति के दो अलग जगहों पर लाभ लेने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। इसलिए सरकार यह कदम उठाने जा रही है।

Todays Beets: