Tuesday, September 19, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

प्रधानमंत्री आवास योजना में नहीं उठा पाएंगे अवैध रूप से लाभ, कड़ी सुरक्षा की तैयारी 

अंग्वाल संवाददाता
प्रधानमंत्री आवास योजना में नहीं उठा पाएंगे अवैध रूप से लाभ, कड़ी सुरक्षा की तैयारी 

नई दिल्ली। अब लोग केंद्र सरकार की आवासीय योजनाओं का लाभ एक बार ही उठा सकेंगे। कोई व्यक्ति इसका दो बार लाभ हासिल न कर पाए इसके लिए केंद्रीय स्तर पर एक तंत्र बनाया जाएगा। सरकार इस धांधली को रोकने के लिए सभी राज्यों का केंद्रीय डाटा तैयार कराने जा रही है। सरकार का मानना है कि इससे लाभार्थियों को अलग-अलग जगहों पर एक से ज्यादा आवासीय योजना का लाभ उठाने से रोका जा सकेगा। केंद्र सरकार द्वारा तैयार किए गए प्रस्ताव में कहा गया है कि एक मास्टर केंद्रीय डाटा तैयार होना चाहिए, जिसमें सभी राज्यों में आवास योजना व केंद्रीय आवास योजना के लाभार्थियों का ब्योरा हो। प्रस्ताव के मुताबिक, इसका उद्देश्य एक ही व्यक्ति को एक से ज्यादा सरकारी योजना का लाभ लेने से रोकना है।  

यह भी पढ़े- आतंकवाद पर जापानी पीएम ने पाकिस्तान को लताड़ा, कहा- भारत में आतंकी हमलों के आरोपियों को मिले सजा


सेंध लगाने की आंशका 

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री आवास योजना को शहरी व ग्रामीण स्तर पर पारदर्शी बनाने के लिए सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। ग्रामीण आवास योजना में लाभार्थी को चुनने, आवास की मंजूरी, पैसा जारी करने तक की प्रक्रिया में कड़ी निगरानी की व्यवस्था है। वाबजूद इसके सभी राज्यों का केंद्रीय डाटा नहीं होने से एक व्यक्ति के दो अलग जगहों पर लाभ लेने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। इसलिए सरकार यह कदम उठाने जा रही है।

Todays Beets: