Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पाकिस्तान ने पहली बार माना लश्कर को माना आतंकी संगठन, दफ्तर और बैंक खाते होंगे सील

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पाकिस्तान ने पहली बार माना लश्कर को माना आतंकी संगठन, दफ्तर और बैंक खाते होंगे सील

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने पहली बार लश्कर ए तैयबा और जमात उद दावा जैसे आतंकी संगठनों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित आतंकी संगठनों के खातों को सील किया जाएगा। पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधी कानून में बदलाव संबंधी अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। इसके तहत पाक सरकार को इन आतंकी संगठन के दफ्तर और बैंक खातों को बंद करना होगा। बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ कोई सबूत न होने की बात कह चुके हैं। 

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय दवाब की वजह से पाकिस्तान की ओर से इन संगठनों पर कार्रवाई करने का दिखावा करता रहा है। पाकिस्तानी राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधी कानून वाले अध्यादेश में संशोधन वाले प्रस्ताव को मंजूरी देने के बाद गृह, वित्त और विदेश मंत्रालय तथा काउंटर फाइनेंसिंग ऑफ टेररिज्म विंग इस मामले पर काम कर रहे हैं। बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के द्वारा आतंकी संगठनों की जो सूची जारी की गई है उनमें हाफिज सईद के संगठन लश्कर ए तैयबा के साथ जमात उद दावा का नाम भी शामिल है।


ये भी पढ़ें - सीआपीएफ मुख्यालय के हमलावरों के साथ दूसरे दिन भी मुठभेड़ जारी, सेना कर रही इमारत को उड़ाने की तैयारी 

आपको बता दें कि सरकार के इस कदम से अल कायदा, तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान, लश्कर ए झांगवी, जमात उद दावा, लश्कर-ए-ताइबा, फलाह ए इंसानियत फाउंडेशन और दूसरे अन्य संगठनों पर कार्रवाई की जा सकेगी।  

Todays Beets: