Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

तेल की बढ़ती कीमतों ने उपभोक्ताओं की जेब में लगाई ‘आग’, दिल्ली में पेट्रोल 80 के पार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तेल की बढ़ती कीमतों ने उपभोक्ताओं की जेब में लगाई ‘आग’, दिल्ली में पेट्रोल 80 के पार

नई दिल्ली। महंगाई की मार से परेशान लोगों को पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने उनकी मुसीबतों को और बढ़ा दिया है। दिल्ली में शनिवार को भी पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली में पेट्रोल की कीमत अब 80.38 रुपये प्रति लीटर हो गई है, जबकि डीजल 72.51 रुपये प्रति लीटर है। यह पहली बार है कि दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 80 रुपये के पार पहुंच गई है। वहीं अगर मुंबई की बात करें तो वहां पेट्रोल 87.77 रुपये प्रतिलीटर और डीजल 76.98 रुपये प्रतिलीटर हो गई है। आर्थिक विशेषज्ञों का मानना है कि अभी कीमतों में और इजाफा होगा।

गौरतलब है कि आर्थिक विशेषज्ञों का मानना है कि तेल की बढ़ती कीमतों की बड़ी वजह रुपये की कीमत में लगातार गिरावट है। इसी वजह से तेल कंपनियां भी कीमतों में लगातार बदलाव कर रही हैं। केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का भी कहना है कि देश में ईंधन की कीमतों में वृद्धि का कारण मुख्य रूप से अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया में गिरावट है।


ये भी पढ़ें -अब सड़कों पर नहीं सुनाई देगा गाड़ियों का तेज हाॅर्न, सरकार कम करेगी इसकी सीमा

यहां बता दें कि पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस और विपक्षी दलों ने 10 सितंबर को भारत बंद का आह्वान किया है। हालांकि पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस ने इस भारत बंद को लेकर कांग्रेस को अपना समर्थन देने से इंकार कर दिया है। उनका कहना है कि वह अपने ही राज्य में इसका विरोध करेंगे। 

Todays Beets: