Thursday, February 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

असदउद्दीन ओवैसी का मंदिर निर्माण वाले बयान पर संघ प्रमुख पर कड़ा प्रहार, कहा- क्या वे मुख्य न्यायाधीश हैं?

अंग्वाल न्यूज डेस्क
असदउद्दीन ओवैसी का मंदिर निर्माण वाले बयान पर संघ प्रमुख पर कड़ा प्रहार, कहा- क्या वे मुख्य न्यायाधीश हैं?

नई दिल्ली। अपनी बेबाक और कड़वी जबान के लिय मशहूर एएमआईएम के नेता असदउद्दीन ओवैसी ने संघ प्रमुख पर जमकर हमला किया है। अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर मोहन भागवत के बयान पर ओवैसी ने कहा कि वे किस हैसियत से ये बात कर रहे हैं, जबकि मामला सर्वोच्च न्यायालय में है। क्या वे सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं?

सुब्रमण्यम स्वामी सच बोल रहे

गौरतलब है कि केरल में हुए धर्म संसद में मोहन भागवत ने कहा था कि राम मंदिर वहीं बनेगा और उसर प्रारूप में बनेगा। असदुउद्दीन ओवैसी ने कहा कि संघ गुजरात चुनाव में राजनीतिक फायदा लेने के लिए इस तरह के बयान दे रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि आरएसएस आग से खेल रहा है और सुप्रीम कोर्ट इस पर संज्ञान लेगा। वहीं भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भागवत को बड़ा दूरदर्शी बताते हुए कहा कि संघ प्रमुख 100 फीसदी सही बोल रहे हैं।


ये भी पढ़ें - कांग्रेस के ‘युवराज’ के नामांकन से पहले शहजाद का एक और हमला, कहा- दिखावे लिए डमी उम्मीदवार खड़... 

साक्ष्यों के आधार पर होगा फैसला

आपको बता दें कि भागवत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए ओवैसी ने आरोप लगाया कि बाबरी मस्जिद पर 5 दिसंबर से सुनवाई सर्वोच्च अदालत में होने वाला है। उनका कहना है कि भाजपा और आरएसएस ‘भय का वातावरण’ बनाना चाहते हैं। उन्होंने आशा जताई कि सुप्रीम कोर्ट इस घृणित षड्यंत्र पर संज्ञान लेगा। ओवैसी ने कहा कि आरएसएस गुजरात चुनाव के बहाने 2019 के लिए राजनीतिक फायदा लेना चाह रहा है। एएमआईएम के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट आस्था के आधार पर फैसला न देकर साक्ष्यों के आधार पर फैसला देगी। 

Todays Beets: