Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

असदउद्दीन ओवैसी का मंदिर निर्माण वाले बयान पर संघ प्रमुख पर कड़ा प्रहार, कहा- क्या वे मुख्य न्यायाधीश हैं?

अंग्वाल न्यूज डेस्क
असदउद्दीन ओवैसी का मंदिर निर्माण वाले बयान पर संघ प्रमुख पर कड़ा प्रहार, कहा- क्या वे मुख्य न्यायाधीश हैं?

नई दिल्ली। अपनी बेबाक और कड़वी जबान के लिय मशहूर एएमआईएम के नेता असदउद्दीन ओवैसी ने संघ प्रमुख पर जमकर हमला किया है। अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर मोहन भागवत के बयान पर ओवैसी ने कहा कि वे किस हैसियत से ये बात कर रहे हैं, जबकि मामला सर्वोच्च न्यायालय में है। क्या वे सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं?

सुब्रमण्यम स्वामी सच बोल रहे

गौरतलब है कि केरल में हुए धर्म संसद में मोहन भागवत ने कहा था कि राम मंदिर वहीं बनेगा और उसर प्रारूप में बनेगा। असदुउद्दीन ओवैसी ने कहा कि संघ गुजरात चुनाव में राजनीतिक फायदा लेने के लिए इस तरह के बयान दे रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि आरएसएस आग से खेल रहा है और सुप्रीम कोर्ट इस पर संज्ञान लेगा। वहीं भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भागवत को बड़ा दूरदर्शी बताते हुए कहा कि संघ प्रमुख 100 फीसदी सही बोल रहे हैं।


ये भी पढ़ें - कांग्रेस के ‘युवराज’ के नामांकन से पहले शहजाद का एक और हमला, कहा- दिखावे लिए डमी उम्मीदवार खड़... 

साक्ष्यों के आधार पर होगा फैसला

आपको बता दें कि भागवत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए ओवैसी ने आरोप लगाया कि बाबरी मस्जिद पर 5 दिसंबर से सुनवाई सर्वोच्च अदालत में होने वाला है। उनका कहना है कि भाजपा और आरएसएस ‘भय का वातावरण’ बनाना चाहते हैं। उन्होंने आशा जताई कि सुप्रीम कोर्ट इस घृणित षड्यंत्र पर संज्ञान लेगा। ओवैसी ने कहा कि आरएसएस गुजरात चुनाव के बहाने 2019 के लिए राजनीतिक फायदा लेना चाह रहा है। एएमआईएम के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट आस्था के आधार पर फैसला न देकर साक्ष्यों के आधार पर फैसला देगी। 

Todays Beets: