Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

यूपी में पंचायत का फरमान, शादियों में अब नहीं बजेगा डीजे, कार्ड छपवाने के बजाय सोशल मीडिया के जरिए मिलेगा निमंत्रण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी में पंचायत का फरमान, शादियों में अब नहीं बजेगा डीजे, कार्ड छपवाने के बजाय सोशल मीडिया के जरिए मिलेगा निमंत्रण

लखनऊ। शादियों में डीजे का बजना आम बात है लेकिन उत्तरप्रदेश में पंचायत ने एक अजीबोगरीब फरमान सुनाया है। अब गोहरा आलमगीरपुर गांव  के आसपास बसे दर्जनों गांवों में अब शादी समारोह में डीजे की धमक नहीं सुनाई देगी। इसके साथ ही शादियों में अनावश्यक खर्च भी नहीं किया जाएगा। यह फैसला गोहरा गांव में जिला पंचायत सदस्य कृष्णकांत की अध्यक्षता में हुई सर्वसमाज की महापंचायत में लिया गया। बताया जा रहा है कि कुछ दिनों पहले एक शादी में घुड़चढ़ी के दौरान डीजे की तेज धमक के कारण एक महिला की मौत हो गई थी और कई गाड़ियों के शीशे टूट गए थे।

गौरतलब है कि डीजे की तेज आवाज मरीजों को काफी नुकसान पहुंचता है उनके लिए इसे सहन कर पाना काफी मुश्किल होता है। यूपी के गांव गोहरा आलमगीरपुर में जिला पंचायत सदस्य कृष्णकांत हूण के नेतृत्व में सर्वसमाज की महापंचायत का आयोजन किया गया जिसमें धनावली अट्टा, मुदाफरा, बागड़पुर, हरनाथपुर कोटा, माधापुर, आघापुरा, मतनौरा, छतनौरा, मुक्तेश्वरा, औरंगाबाद, आरिफपुर, सरीफपुर, सलारपुर, दत्तियाना समेत तीन दर्जन गांवों के सैकड़ों ग्रामीणों ने भाग लिया। महापंचायत की बैठक में इस बात का फैसला लिया गया कि पूरे गांव में किसी भी शादी के दौरान डीजे नहीं बजेंगे।


ये भी पढ़ें - पूरे देश में मौसम का कहर जारी, 50 लोगों की मौत, दिल्ली-एनसीआर में कई पेड़ उखड़े, 48 घंटे भारी

यहां बता दें कि महापंचाययत ने इस बात का भी निर्णय लिया कि दहेज की लिस्ट पढ़कर नहीं सुनाई जाएगी न ही दहेज के समान का प्रचार करेंगे, असलहों के साथ बारात का स्वागत नहीं किया जाएगा और न ही ककसी भी तरह की हर्ष फायरिंग होने की इजाजत होगी। सबसे बड़ी बात यह रही कि खाने की बर्बादी को लेकर पर बड़ा निर्णय लिया। कागज की बर्बादी को रोकने के लिए शादी के कार्ड भी छपवाने के बजाय व्हाट्स एप या फोन पर निमंत्रण देने की बात कही गई है। 

Todays Beets: