Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

जिस बांध परियोजना को रोकने के लिए षड़यंत्र हुए, विश्व बैंक ने फंड नहीं दिया, हमने अपने पसीने से उसे पूरा किया - पीएम मोदी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जिस बांध परियोजना को रोकने के लिए षड़यंत्र हुए, विश्व बैंक ने फंड नहीं दिया, हमने अपने पसीने से उसे पूरा किया - पीएम मोदी

दभोई (गुजरात) । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को सरदार सरोवर बांध का उद्घाटन करते हुए इसे देश को समर्पित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि इस परियोजना को रोकने के लिए कई षयडंत्र हुए, लेकिन हमने अपने पसीने से इस बांध का निर्माण कर लिया है। इस दौरान उन्होंने कहा कि एक समय इस परियोजना को फंड देने के लिए विश्व बैंक ने भी मना कर दिया था। उस दौरान गुजरात के मंदिरों से भी इस बांध को बनाने के लिए पैसा दिया गया। पीएम मोदी ने कहा कि यह किसी सरकार का या संगठन की सफलता नहीं बल्कि देश के लोगों की एक इच्छाशक्ति का परिणाम है। इस प्रयास के चलते सीमा पर तैनात जवानों तक हमने पानी पहुंचा दिया है।

इस दौरान पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा कि एक समय सीमा के जवान बिना पानी के खड़े थे। उन्हें पानी के लिए खासी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। पिछले कई सालों से पानी एक बड़ा संकट था। महिलाएं कई-कई मील तक जाती थी सिर्फ कुछ बूंदें पानी के लिए। इस दौरान छोटी छोटी बच्चियां भी अपनी मां की मदद के लिए आगे आती थीं, अपनी पढ़ाई छोड़कर, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। हमने उन लोगों तक पानी पहुंचाया है। 


इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि इस बांध की मदद से अब नर्मदा का पानी महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान के लोगों का जलसंकट दूर होगा। हालांकि कई लोगों ने इस बांंध को लेकर हम पर तरह तरह के आरोप लगाए लेकिन हमने अपनी इच्छाशक्ति से लोगों को राहत देने के लिए इस बांध को बनाने का का पूरा किया। इससे भारत के संतुलित विकास की गति बढ़ेगी। इससे जहां पश्चिम को पानी मिलेगा वहीं पूर्व को बिजली मिलेगी। इससे बाड़मेर की धरती को पानी मिलेगा। नर्मदा के पानी से भारत के विकास की नई गाथा लिखी जाएगी। 

Todays Beets: