Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अपने जन्मदिवस के मौके पर यह खास काम करेंगे प्रधानमंत्री मोदी 

अंग्वाल संवाददाता
अपने जन्मदिवस के मौके पर यह खास काम करेंगे प्रधानमंत्री मोदी 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन आगामी शनिवार यानी (17 सितबंर) को है। इस मौके पर वह एक खास काम करने वाले हैं। पूर्व पीएम जवाहरलाल नेहरू द्वारा 56 साल पहले गुजरात के नर्मदा जिले के केवादिया में सरदार सरोवर बांध की आधार शिला रखी थी। इसके बाद अब 17 सितंबर को पीएम मोदी इसका उद्धाटन करेंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा बांध है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा है कि पीएम सरदार सरोवर परियोजना को इशके 30 दरवाजों को खोलने के बाद राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

यह भी पढ़े- धार्मिक स्कूल में आग लगने से सोते हुए 23 बच्चों की मौत, कई अस्पताल में भर्ती

इसे नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण द्वारा इस साल 17 जून को बंद कर दिया गया था। रूपाणी ने कहा है कि यह उनके जन्मदिन का सबसे अच्छा तोहफा है, क्योंकि उन्होंने इस बांध के लिए अथक काम किया है, ताकि राज्य के सूखा प्रभावित क्षेत्रों में पानी लाया जा सके। 


यह भी पढ़े- बागपत में क्षमता से ज्यादा लोगों को ले जा रही नाव डूबी, 20 लोगों की मौत, कई लापता

इतना ही नहीं उन्होंने कांग्रेस पर निशाने साधते हुए कहा कि वर्ष 2014 से पहले के सालों तक संप्रग सरकार ने बांध के गेट स्थापित करने की अनुमति नहीं दी। मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के 17 दिन के अंदर अनुमति दे दी गई। उन्होंने यह भी कहा कि इस परियोजना से 18 लाख हेक्टेयर जमीन को लाभ होगा। नर्मदा के पानी से नहरों के द्वारा 9,000 गांवों में सिंचाई की जा सकेगी।

Todays Beets: